किसान को ज़िंदा जलाए जाने पर बरसी कांग्रेस, कहा यूपी की क़ानून व्यवस्था ICU में, नड्डा कर रहे झूठी तारीफ़

बरेली में पेड़ से बंधा मिला किसान का अधजला शव, बरेली के एसएसपी ने कहा, पोस्टमार्टम से साफ़ होगा ख़ुदकुशी है या हत्या, परिजनों ने दो लोगों पर हत्या का शक ज़ाहिर किया है

Updated: Jan 24, 2021, 01:50 PM IST

किसान को ज़िंदा जलाए जाने पर बरसी कांग्रेस, कहा यूपी की क़ानून व्यवस्था ICU में, नड्डा कर रहे झूठी तारीफ़
Photo Courtesy: Live Hindustan

बरेली। उत्तर प्रदेश के बरेली में एक किसान को बर्बरता से ज़िंदा जलाकर मार डालने की ऐसी भयानक वारदात सामने आई है, जिससे किसी का भी दिल दहल जाएगा। कांग्रेस ने इस वारदात को लेकर यूपी की योगी सरकार और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा पर भी निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में इतना बुरा हाल है कि किसान ज़िंदा जलाए जा रहे हैं और बीज़ेपी अध्यक्ष योगी राज में क़ानून व्यवस्था की तारीफ़ कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से प्रदेश की कांग्रेस नेता डॉली शर्मा का एक ट्वीट शेयर किया है, जिसमें उन्होंने राज्य में क़ानून-व्यवस्था की हालत पर बेहद तीखी टिप्पणी की है। ट्वीट में लिखा है,  “उत्तर प्रदेश की 'कानून व्यवस्था' आईसीयू में जा चुकी है। हृदयविदारक! बरेली के शीशगढ़ में किसान को पेड़ में कटीले तार से बांधकर जिंदा जला दिया गया। और नड्डा जी आप उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था की तारीफ कर रहे हैं। शर्मनाक! ऐसा तो केवल #जंगलराज में ही होता है।”

बरेली की खौफनाक वारदात

कांग्रेस ने बरेली की जिस वारदात को लेकर प्रदेश की सरकार और बीजेपी अध्यक्ष पर करारा हमला किया है, वो वाक़ई दिल दहलाने वाली है। मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक़ बरेली के शीशगढ़ के गांव बरगवां में एक ग्रामीण को पेड़ से बांधकर जिंदा जला दिया गया। जंगल में सेमल के एक पेड़ में उसका अधजला शव कंटीले तारों से बंधा हुआ मिला। बरगवां गांव के रहने वाले 40 साल के धर्मपाल खेती किसानी करते थे। वे शुक्रवार रात करीब 11 बजे घर से बाहर गए, तो रात भर वापस नहीं आए। परेशान परिवार वाले उन्हें तलाश करते रहे। इसके बाद शनिवार को दोपहर बाद करीब ढाई बजे कुछ लोगों ने पेड़ से बंधा शव देखकर ख़बर दी तो परिवार के लोग वहाँ पहुँचे। धर्मपाल का अधजला शव गांव से आधा किलोमीटर की दूरी पर जंगल में सेमल के एक पेड़ से बंधा हुआ मिला। घरवालों को शक है कि उन्हें कंटीले तार से पेड़ में बांधकर जलाया गया था। 

बरेली पुलिस का कहना है कि मृतक के परिजनों ने एक नोट दिया है, जिसमें दो लोगों पर आरोप लगाया गया है। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। जिले के एसएसपी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा कि यह खुदकुशी का मामला है या हत्या का।

 

 

बताया जा रहा है कि धर्मपाल के परिजनों ने मृतक के लिखे जिस नोट सबूत के तौर पर पुलिस को सौंपा है, उसमें किसी पुराने विवाद की वजह से दो लोगों पर शक जाहिर किया गया है। धर्मपाल के परिवार वालों को शक है कि रात में ही अपहरण करने के बाद उनकी बर्बरता के साथ हत्या कर दी गई है। पुलिस को मौक़े से तेल की कैन भी मिली है।