नौकरी जाने के खतरे के बीच पराग अग्रवाल ने कर्मचारियों को चेताया, कहा ट्विटर का भविष्य अंधकारमय

एलन मस्क द्वारा ट्विटर को अधिग्रहित करने के बाद भारतीय मूल के CEO पराग अग्रवाल की मुश्किलें बढ़ने की संभावना व्यक्त की जा रही हैं, माना जा रहा है कि अब कंपनी से उसके मौजूदा सीईओ पराग अग्रवाल की छुट्टी हो जाएगी

Updated: Apr 26, 2022, 10:17 AM IST

नौकरी जाने के खतरे के बीच पराग अग्रवाल ने कर्मचारियों को चेताया, कहा ट्विटर का भविष्य अंधकारमय

न्यूयॉर्क। एलन मस्क के ट्विटर को खरीदने के बाद कंपनी के भारतीय मूल के CEO पराग अग्रवाल के भविष्य को लेकर कयास लगने लगे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पराग ने ट्विटर के बिकने के बाद कर्मचारियों को चेताते हुए कहा है कि मस्क की लीडरशिप में ट्विटर का भविष्य अंधकार में है। किसी को नहीं मालूम कि कंपनी अब किस दिशा में जाने वाली है। इसी बीच अब जानकारी मिल रही है कि जल्द ही कंपनी से पराग की छुट्टी हो सकती है। लेकिन इसके बदले अग्रवाल को भारी हर्जाना भी मिल सकता है। 

और पढ़ें: टेस्ला का हुआ हुआ ट्विटर, मालिक मस्क ने साढ़े तीन हज़ार अरब में ख़रीदी कंपनी

जानकारों का कहना है कि एलन मस्क किसी भी हाल में पराग अग्रवाल के साथ कॉन्ट्रेक्ट को आगे नहीं बढ़ाएंगे। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की खबर के अनुसार डील के बाद पराग ने टाउनहॉल में बोलते हुए कहा कि ट्विटर का भविष्य अनिश्चित हो गया है। जिसके बाद से उन्हें हटाए जाने की संभावनाओं को और बल मिल गया। हालांकि, यदि पराग को कंपनी से निकाला जाता है तो उन्हें भरी भरकम हर्जाना भी मिलेगा।

रिसर्च फर्म इक्विलर के अनुसार अगर 12 महीने के अंदर सीईओ पराग अग्रवाल की छुट्टी होती है तो कंपनी को उन्हें 42 मिलियन डॉलर की राशि यानी 321 करोड़ रुपए का भुगतान करना होगा। इस बीच पराग ने एक ट्वीट कर अपनी टीम के काम की तारीफ भी की है। उन्होंने लिखा कि, 'ट्विटर पूरी दुनिया में प्रासंगिक और प्रभावी है। मुझे अपनी टीम पर गर्व है।' पराग पिछले 10 साल से ट्विटर से जुड़े हैं और CEO बनने से पहले वे चीफ टेक्निकल ऑफिसर के पद पर काम कर रहे थे।

ट्विटर खरीदने के बाद मस्क ने बयान जारी करते हुए कहा कि डेमॉक्रेसी के फंक्शनिंग के लिए फ्री स्पीच की आवश्यकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि ट्विटर के एल्गोरिदम को ओपन सोर्स किया जाएगा जिससे कि यूर्जस के विश्वास को जीता जा सके। उन्होंने यह भी कहा कि मुझे उम्मीद है कि मेरे सबसे बुरे आलोचक भी ट्विटर पर बने रहेंगे, क्योंकि फ्री स्पीच का यही मतलब है। इससे पहले ट्विटर पर लगातार एकतरफा होने और आलोचकों का ट्विटर हैंडिल सप्रेस करने के आरोप लगते रहे हैं। 

एलन मस्क द्वारा ट्विटर को खरीदने के बाद बोर्ड में परिवर्तन की उम्मीद की जा रही है। बताते चलें कि हाल ही में एलन मस्क ने अपने ट्वीट में कहा था कि अगर मैं ट्विटर की बोली जीत जाता हूं तो बोर्ड की सैलरी 0 डॉलर होगी। इससे हर साल 30 लाख डॉलर की बचत होगी। 

उधर व्हाइट हाउस ने सोमवार को ट्विटर इंक को खरीदने के लिए अरबपति एलन मस्क के सौदे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, लेकिन कहा कि राष्ट्रपति जो बाइ़डने लंबे समय से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की बढ़ती शक्ति को लेकर चिंतित हैं। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जेन साकी ने कहा कि हमारी चिंताएं नई नहीं हैं।