हमले के बाद सलमान रुश्दी की एक आंख की रोशनी गई, एक हाथ ने भी काम करना बंद किया

मशहूर लेखक सलमान रुश्दी के गले में काफी गंभीर तीन घाव लगे थे। जिसके चलते उनकी आंखो की रोशनी चली गई और उनके एक हाथ की नस भी कट गई, जिसके चलते उनके हाथ ने भी काम करना बंद कर दिया है।

Updated: Oct 24, 2022, 09:04 AM IST

हमले के बाद सलमान रुश्दी की एक आंख की रोशनी गई, एक हाथ ने भी काम करना बंद किया

न्यूयॉर्क। न्यूयार्क में 12 अगस्त को हुए हमले के दौरान घायल हुए विश्वप्रसिद्ध लेखक सलमान रुश्दी की एक आंख की रोशनी चली गई है। साथ ही उनके एक हाथ ने भी काम करना बंद कर दिया है। इस बात की जानकारी सलमान रुश्दी के एजेंट ने दी। 

सलमान रुश्दी पर हमले के बाद स्वास्थ्य से संबंधित जानकारी उनके एजेंट एंड्रयू वाइली ने एक स्पेनिश अखबार को इंटरव्यू के दौरान दी है। जिसमें उन्होंने बताया कि ये हमला किस तरह का था। उन्होंने सलमान रुश्दी के हमले को गंभीर बताते हुए कहा कि उनके गले में तीन गहरे घाव थे जिसमें उनकी एक आंख की रोशनी चली गई और एक हाथ ने काम करना भी बंद कर दिया है।

सलमान रुश्दी के एजेंट एंड्रयू वाइली ने एल पैस (El Pais) न्यूजपेपर को दिए इंटरव्यू में कहा कि उनके घाव गहरे थे। उन्होंने अपनी एक आंख की रोशना गंवा दी है। गले में तीन गंभीर घाव थे। एक हाथ ने काम करना बंद कर दिया क्योंकि उनकी हाथ की नसें काट दी गई हैं। उनकी छाती और धड़ में 15 घाव थे।

यह भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह के घर सजी अनोखी रंगोली, दिवाली पर नफ़रत छोड़ भारत जोड़ने का दिया संदेश

हालांकि, उनके एजेंट ने सलमान रुश्दी की लोकेशन के बारे में जानकारी देने से मना कर दिया है। एंड्रयू ने ये नहीं बताया कि वो अभी अस्पताल में हैं या वो डिस्चार्ज होकर अपने घर पहुंचे हैं। इस बारे में उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि बड़ी बात ये है कि वो जिंदा बच गए।इन सभी बातों के अलावा एंड्रयू ने कहा कि सलमान रुश्दी ने इस तरह के हमलों के बारे में पहले भी बात की थी और संभावना व्यक्त की थी।

बता दें कि भारतीय मूल के ब्रिटिश लेखक सलमान रुश्दी पर अमेरिका के न्यूयॉर्क में अगस्त के महीने में एक कार्यक्रम के दौरान चाकुओं से हमला किया गया था। घटना के बाद उन्हें एक स्थानीय ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया और कई घंटे चली सर्जरी के बाद वेंटिलेटर पर रखा गया। मुंबई में जन्मे विवादास्पद लेखक रुश्दी को ‘द सैटेनिक वर्सेज' लिखने के बाद वर्षों तक इस्लामी चरमपंथियों से मौत की धमकियों का सामना करना पड़ा।