उच्च जाति की लड़की से दोस्ती करना दलित युवक को पड़ा भारी, लड़की के परिजनों ने पहनाई जूते की माला, थूक भी चटवाया

मामला जबलपुर के दामन खमरिया गांव का है, जहां अपने परिवार की लड़की के साथ दलित युवक की मित्रता का पता चलने पर परिजनों ने युवक राजकुमार डहरिया और उसके दोस्त के बाल काट दिए, इसके बाद उन्हें जूते का माला पहनाकर पूरे गांव में घुमाया, युवक की शिकायत के बाद पुलिस ने युवती के पिता सहित चार लोगों को जेल

Updated: Jun 01, 2021, 10:18 PM IST

उच्च जाति की लड़की से दोस्ती करना दलित युवक को पड़ा भारी, लड़की के परिजनों ने पहनाई जूते की माला, थूक भी चटवाया

जबलपुर। अपने से उच्च जाति की लड़की से दोस्ती रखना जबलपुर के एक युवक को भारी पड़ गया। अपने परिवार की युवती की एक दलित युवक से दोस्ती का पता चलने पर परिजनों ने दलित युवक और उसके दोस्त के साथ मारपीट की। दोनों को जूते का माला पहनाकर थूक भी चटवाया। इस मामले की शिकायत पुलिस तक पहुंचने के बाद युवती के पिता सहित चार आरोपियों को एसटी एससी एक्ट में जेल भेज दिया गया है।

यह घटना जबलपुर के दामन खरिया गांव में 22 मई को हुई। 19 वर्षीय युवती के पास से परिजनों को मोबाइल फोन मिला था। चूंकि युवती को घर के बाहर जाने की इजाज़त नहीं थी, इसलिए उसके दोस्त राजकुमार डहरिया ने युवती को बात करने के लिए मोबाइल फोन उपहार में दिया था। लेकिन जैसे ही परिजनों को युवती की एक दलित युवक के साथ दोस्ती की बात पता चली, युवती के परिजनों ने दलित युवक को मज़ा चखाने की ठान ली। 

यह भी पढ़ें : मंत्री मोहन यादव और सांसद अनिल फिरोजिया का कटा चालान, बिना हेलमेट चला रहे थे बाइक

युवती के परिजन दलित युवक राजकुमार डहरिया और उसके दोस्त को जबरदस्ती अपने साथ ले आए। इसके बाद परिजनों ने दोनों के सिर के बाल काट दिए। युवती के परिजनों ने दोनों दलित युवकों को जूते की माला पहनाकर पूरे गांव के चक्कर लगवा दिए और इसके साथ ही दोनों को थूक भी चटवाया। इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर भी वायरल कर दिया गया। युवती के परिजनों ने दोनों युवकों को पुलिस में शिकायत न करने की भी चेतावनी दी थी। 

यह भी पढ़ें : स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी की सरकारी गाड़ी में जमी शराब के शौकीनों की महफिल, छलके जाम

लेकिन 27 मई को यह मामला पुलिस के संज्ञान में आ गया। इसके बाद पुलिस ने पीड़ित युवकों की शिकायत पर पवन यादव, नन्हेलाल यादव, शिवकुमार यादव और घनश्याम यादव को एसटी एससी एक्ट के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।