भिड के बाद ग्वालियर में ज़हरीली शराब पीने से 2 की गई जान, 4 अस्पताल में भर्ती

भिड़ मुरैना और अब ग्वालियर में भी काल बनी जहरीली शराब, भाई दूज के दिन ज़हरीली शराब के सेवन ने लील लिया जीवन

Updated: Apr 02, 2021, 02:18 PM IST

भिड के बाद ग्वालियर में ज़हरीली शराब पीने से 2 की गई जान, 4 अस्पताल में भर्ती
Photo courtesy: bansal news

भोपाल/ग्वालियर। ग्वालियर ज़िले के महाराजपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत चंदूपुर गांव में जहरीली शराब पीने से 2 युवकों की जान चली गयी है। वहीं 4 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है भर्ती हुए लोगों की आखों की रोशनी कम हो गई है।

महाराजपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत चंदूपुर गांव में होली पर कुछ लोगों ने शराब पी थी। इसके बाद दो लोगों की मौत हो गई वहीं चार लोगों की आँख की रोशनी कम हो गई। जहरीली शराब पीने से प्रदीप परिहार और विजय परिहार की मौत हो गई है। वहीं बंटी रजक, तेजसिंह रजक, राकेश माहौर और चंद्रपाल को अस्पताल में भर्ती किया गया है। राकेश माहौर, बंटी रजक, चंद्रपाल जाटव ये तीनो ही ड्राइवर हैं। तेज़ सिंह जाटव और बंटी रजक की आँखों की रोशनी कम हो गयी है. इन्हें जयारोग्य अस्पताल में भर्ती किया गया है।

ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि गुमटियों में ज़हरीली शराब बिकती है।लेक़िन न तो पुलिस कार्रवाई क़रतीं न ही आबकारी विभाग। भिंड से अवैध शराब आती है और गुमटियों में बेची जाती है।सस्ती शराब के लालच में गांव के लोग गुमटियों से शराब खरीद लेते हैं। यही वज़ह से आये दिन दुर्घटनाएं हो रही है। अग़र पुलिस और आबकारी अमला गुमटियों पर कार्रवाई करता तो मौतें न होती।

मृतक विजय सिंह का वेटा कोमल सिंह कहते हैं कि मेरे पिता विजय सिंह खेत जाने की बात कह कर गए थे। प्रदीप और बंटी के साथ मिलकर शराब पी ली। घर लौटे और सीधे कमरे पर चले गए, शाम 7 बजे उनके पेट मे जलन हुई तो उन्हें अस्पताल ले जा रहे थे जहां रास्ते मे ही उनकी  मृत्यु हो गई।

बंटी की पत्नी ममता ने बताया कि 30 मार्च को मोटर पर लगी बल्ब खोलने के लिए पति खेत नए थे वहीं उन्होंने शराब पी ली। रात में घर आ कर सो गए सुबह उठे तो उल्टियां होने लगी। उन्हें जिला अस्पताल लाया गया, तब तक वे बेहोश हो गए। 30अप्रैल को दो बेटियों की शादी होनी है।ऐसे हालत रही तो बेटियों की शादी कैसे होगी

गौरतलब है कि चंबल अंचल में आने वाले मुरैना जिले में बीते दिनों जहरीली शराब पीने से 27 लोगों की मौतें हो चुकी है।इन मौतों के बाद काफी बवाल मचा था। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सरकार से प्रदेश में शराब पर रोक लगाने की बात कही थी। लेक़िन सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शराब पर रोक न लगाते हुए यहां के अधिकारियों को निलंबित और कुछ के तबादले करा दिए थे।