प्रज्ञा ठाकुर के बिगड़े बोल, मुसलमानों को बताया विधर्मी, बोलीं- अजान से बढ़ जाता है ब्लड प्रेशर

भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा अजान से नींद हराम हो जाती है, सर्वधर्म समभाव की परिभाषा कांग्रेस की, मेरे लिए सिर्फ सनातन धर्म, कांग्रेस ने इसपर आपत्ति जताते हुए उन्हें मानवता का दुश्मन बताया है

Updated: Nov 10, 2021, 06:15 PM IST

प्रज्ञा ठाकुर के बिगड़े बोल, मुसलमानों को बताया विधर्मी, बोलीं- अजान से बढ़ जाता है ब्लड प्रेशर

भोपाल। बीजेपी की बड़बोली सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। प्रज्ञा ठाकुर ने इस बार अजान को लेकर कहा है कि उससे सबकी नींद खराब होती है। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा है कि यदि हम लाउडस्पीकर लगाते हैं तो विधर्मियों को पीड़ा होती है। भोपाल सांसद के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कांग्रेस ने उन्हें मानवता का दुश्मन करार दिया है।

भोपाल के बैरसिया में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, 'सुबह 5 बजकर कुछ मिनट से बहुत जोर-जोर से आवाज आती है। और वो आवाज लगातार चलती रहती है, सबकी नींद हराम होती है। कुछ लोग मरीज होते हैं, उनका भी ब्लड प्रेशर बढ़ता है। किसी मरीज को रातभर नींद नहीं आती है और सुबह जब वो सोने जाता है तो आवाजों से विघ्न पैदा होता है। साधु-संतों की ध्यान साधना का समय भी 4 बजे ब्रह्म मुहूर्त से होता है।' 

प्रज्ञा ठाकुर ने आगे कहा, 'हमारी आरती का समय भी सुबह 4 बजे ब्राह्ममुहूर्त से प्रारंभ होता है। लेकिन इस बात की किसी को कोई परवाह नहीं है। जबरदस्ती के माइक हमारे कानों में गूंजते हैं। जब हम माइक लगा लेते हैं तो विधर्मियों को पीड़ा होती है। वे कहते हैं कि हम किसी और इबादत का कोई शब्द नहीं सुन सकते क्योंकि इस्लाम में ठीक नहीं माना जाता। कांग्रेस के समय में सर्वधर्म समभाव की परिभाषा दे दी गई। मेरी परिभाषा है कि सनातन धर्म के अलावा और कोई धर्म ही नहीं है।'

मानवता की दुश्मन है प्रज्ञा ठाकुर: कांग्रेस

भोपाल सांसद के इस बयान पर कांग्रेस ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि प्रज्ञा ठाकुर मानवता की दुश्मन है। एमपी यूथ कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने कहा, 'प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल के अस्पताल में मासूमों की चीखें नहीं सुनाई दी। प्रज्ञा ने उन दर्जनों माँओ का रुदन नहीं सुना जिनकी गोद उजड़ गई। लेकिन प्रज्ञा को अजान खूब सुनाई दे रहा है। हम तो शुरुआत से कहते थे कि आतंकी गतिविधियों में शामिल रहने वाली प्रज्ञा साध्वी नहीं हो सकती। लेकिन आज ये साबित हो गया कि वह एक महिला भी नहीं है।'

यह भी पढ़ें: मांओं की करुण पुकार बच्चों से मिलने की लगाई गुहार, बच्चों के बदले जाने की जताई आशंका

त्रिपाठी ने कहा, 'महिलाओं में करुणा होती है, प्यार होता है। छोटे बच्चों के लिए चिंता होती है। लेकिन प्रज्ञा ठाकुर एक महिला होकर इतनी क्रूर है कि बच्चों की चीख से उसकी नींद खराब नहीं हुई बल्कि अजान से उसकी नींद खुलती है। भोपाल का यह दुर्भाग्य है कि प्रज्ञा यहां की सांसद है। हमें उनके मंसूबे ठीक नहीं लग रहे हैं। हम माननीय न्यायालय से मांग करते हैं कि प्रज्ञा ठाकुर की जमानत रद्द कर उसे जेल भेजा जाए। हमें आशंका है कि प्रज्ञा ठाकुर भोपाल में दंगे भड़काने की फिराक में है।'