गोपाल भार्गव ने सिंधिया के समर्थकों को बताया 'खिलाड़ी', कांग्रेस ने कहा, बड़ी जल्दी समझ गए

उज्जैन में बीजेपी का आज से दो दिवसीय प्रशिक्षण सत्र शुरू हो रहा है, बीजेपी का पूरा फोकस कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए सिंधिया समर्थक विधायकों को बीजेपी की रीति समझाने पर है

Updated: Feb 12, 2021, 03:00 PM IST

गोपाल भार्गव ने सिंधिया के समर्थकों  को बताया 'खिलाड़ी', कांग्रेस ने कहा, बड़ी जल्दी समझ गए
Photo Courtesy : Naidunia

भोपाल। शिवराज सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल  भार्गव ने सिंधिया समर्थकों को लेकर बड़ी बात कह दी है। गोपाल भार्गव ने एक निजी न्यूज़ चैनल से बात करते हुए कहा है कि सिंधिया समर्थक नेता खिलाड़ी हैं। गोपाल भार्गव ने कहा है कि सिंधिया के साथ वाले खिलाड़ी हैं। 

कांग्रेस ने गोपाल भार्गव के इस बयान को लेकर अपनी प्रतीयक्रिया दी है। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने सिंधिया समर्थकों पर निशाना साधते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश के भाजपा के क़द्दावर नेता , वरिष्ठ मंत्री गोपाल भार्गव भाजपा के प्रशिक्षण शिविर में सिंधिया जी के लोगों को पार्टी की रीति- नीति सीखने के सवाल पर इस विडीओ में कह रहे है कि सिंधिया समर्थक तो “ खिलाड़ी “ है..? सलूजा ने कहा कि 'समझा जा सकता है कि भाजपा के लोग कितनी जल्दी इनको पहचान गये।' 

यह भी पढ़ें : उज्जैन में शुरू हुआ बीजेपी का ट्रेनिंग कैम्प, दलबदलुओं को विचारधारा से जोड़ने की कवायद

दरअसल आज से उज्जैन में बीजेपी का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर शुरू हुआ है। माना जा रहा है कि बीजेपी के इस प्रशिक्षण शिविर का मुख्य उद्देश्य कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए सिंधिया समर्थक नेताओं को बीजेपी की रीति और नीति से अवगत कराना है। 126 विधायकों वाले इस शिविर में बीजेपी का पूरा फोकस इन्हीं विधायकों पर है। लिहाज़ा गोपाल भार्गव से एक न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर ने शिविर और उसके उद्देश्य को लेकर पूछा तो बीजेपी नेता ने कहा कि उनके साथ वाले 'खिलाड़ी' हैं। 

इस प्रशिक्षण शिविर को प्रदेश में होने वाले आगामी निकाय चुनाव के मद्देनजर भी अहम माना जा रहा है। इसके अलावा विधानसभा सत्र से पहले सीएम शिवराज अपने विधायकों को जरूरी टिप्स देंगे ताकि सत्र के दौरान किसी विधायक से किसी तरह की चूक ना हो। विधानसभा का बजट सत्र 22 फरवरी से बुलाया गया है। इसी सत्र में विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव भी होना है। मध्य प्रदेश विधानसभा में 230 सीटें हैं, जिनमें से 126 विधायक बीजेपी के हैं। कांग्रेस के 96 विधायक हैं।