Corruption in MP: उद्घाटन से पहले ही नदी में बहा करोड़ों का पुल

Act Of God: मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में महीने भर पहले बना 3 करोड़ का पुल बाढ़ में बहा, लोगों ने कहा -यह है भ्रष्टाचार या एक्ट ऑफ गॉड, सरकार ने कहा जांच करेंगे

Updated: Aug 31, 2020 12:28 AM IST

Corruption in MP: उद्घाटन से पहले ही नदी में बहा करोड़ों का पुल
Photo Courtsey : NDTV

सिवनी। मध्यप्रदेश में बारिश और बाढ़ की खबरों के बीच करोड़ों का बना एक नया नया पुल बह गया है। यह घटना भोपाल से १५० किलोमीटर दूर सिवनी जिले की है, जहां उद्घाटन से पहले ही पुल के ढह जाने से अनेकों सवाल उठ खड़े हुए हैं। सरकारी रिकॉर्ड्स के मुताबिक इस पुल का निर्माणकार्य आज यानी 30 अगस्त को पूरा होनेवाला था। लेकिन यह पुल एक महीने पहले ही बनकर तैयार हो गया था। इस पुल पर लोगों ने आवाजाही भी शुरू कर दी थी। लेकिन एक ही बारिश में इस पुल के खंबे झूल गए और एक बड़ा हिस्सा टूटकर लटक गया है। यानी राज्य सरकार द्वारा हाल में बनाया गया पुल बारिश नहीं भ्रस्टाचार की भेंट चढ़ गया। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह पुल प्रधानमंत्री ग्रामीम सड़क योजना के तहत बनाया जा रहा था। 150 मीटर लंबे व 9 मीटर ऊंचे इस पुल के निर्माण में 3 करोड़ 7 लाख रुपए का खर्च आया था। इस ब्रिज का निर्माण कार्य तय समय से पहले यानी 30 जून को ही पूरा हो गया था। जिसके बाद स्थानीय लोगों ने इस पर आवागमन भी शुरू कर दिया था।

महीने पहले निर्मित ब्रिज के औपचारिक उद्घाटन होने से पहले ही पानी में बहने के बाद अब शासन और प्रशासन पर सवाल उठने लगे हैं। बता दें कि यह सिवनी जिले के केवलानी विधानसभा क्षेत्र में आता हैं जहां के विद्यायक बीजेपी के राकेश पाल हैं। इसका निर्माण कार्य सितंबर 2018 में शुरू हुआ था और लगभग दो साल में बने इस पुल का उद्घाटन भी नहीं हुआ कि यह ढह गया। इस पुल के बहने के बाद प्रशासन ने जांच के आदेश दे दिए हैं।

Click: Chhindwara पहाड़ी गिर के बाद बह गई 100 मीटर लंबी सड़क

फिलहाल पुल के बहने के बाद आवागमन बाधित हो गया है । इसके साथ ही लोगों को आसपास के इलाकों से संपर्क टूट गया है। वैनगंगा नदी पर निर्मित यह पुल सुनवारा और भीमगढ़ गांव को जोड़ता है। सोशल मीडिया पर इस पुल की तस्वीरें और वीडियो तेजी से वायरल हो रहे हैं। 

 

 

लोगों ने कहा 'एक्ट ऑफ गॉड'

ट्वीटर यूजर्स मामले पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। एक यूजर दीपक कुमार ने लिखा है कि बीजेपी ने शायद इसी पुल के उद्घाटन के लिए विधायक खरीदे थे। वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा है कि इस पुल के पीछे भी शायद नेहरू का हाथ है। वहीं एक यूजर विजय पाल सिंह ने बीजेपी पर तंज कसते हुए इसे 'एक्ट ऑफ गॉड' बताया है।