Anuppur Assembly Seat: खाद्य मंत्री बिसाहू लाल सिंह करवा रहे गेहूं की कालाबाजारी, कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत

Bisahulal Singh: बिसाहू लाल सिंह पर कांग्रेस ने लगाए घोटाले करने के आरोप, मंत्रीपद से बर्खास्त और चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करने की मांग की

Updated: Oct 05, 2020, 02:57 AM IST

Anuppur Assembly Seat: खाद्य मंत्री बिसाहू लाल सिंह करवा रहे गेहूं की कालाबाजारी, कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत
Photo Courtesy: Halehulchal

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी उपचुनाव से पहले राज्य की सियासत गरमा गई है। कांग्रेस ने अपने बागी विधायक और राज्य सरकार में खाद्य मंत्री बिसाहू लाल सिंह की शिकायत चुनाव आयोग से की है। कांग्रेस का आरोप है कि बिसाहू लाल सिंह अपने पद का दुरुपयोग कर अपने क्षेत्र में गेहूं की कालाबाजारी कर रहे हैं ताकि चुनाव के लिए फण्ड इकट्ठा कर सकें। 

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से अपने शिकायत पत्र में कहा है कि अनूपपुर से पूर्व विधायक बिसाहू लाल सिंह ने खाद्य मंत्री रहते हुए ज़िले के शासकीय गेहूं भण्डारण केंद्र से बड़ी मात्रा में गेहूं को निजी व्यापारियों के हवाले कर दिया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि गेहूं को निजी व्यापारियों के गोदाम में रखवाया गया है। बिसाहू लाल सिंह ऐसा चुनावों में फायदा उठाने के लिए कर रहे हैं। कांग्रेस ने अपने शिकायत पत्र में कहा है कि पीडीएस के माध्यम से आम जनता तक मुहैया कराए गए राशन में भी करोड़ों का घोटाला किया गया है। 

कांग्रेस ने अपने शिकायत पत्र में बिसाहू लाल सिंह पर पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते हुए मंत्रीपद से तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है। इसके साथ ही कांग्रेस ने चुनाव आयोग से बिसाहू लाल सिंह के चुनाव लड़ने को प्रतिबंधित करने की भी मांग की है।

दरअसल, इस बात का खुलासा तब हुा जब खाद्य विभाग की छापेमारी में सरकारी पीडीएस का गेहूं निजी गोदाम में भरा मिला। मध्य प्रदेश के खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह के गृह जिले अनूपपुर में एक प्राइवेट गोदाम पर खाद्य विभाग ने कुछ दिन पहले छापा मारा था। जहां गरीबों को बंटनेवाला अनाज बाजार में बिकने की तैयारी में था। अनूपपुर जिले के कोतमा तहसील के वार्ड नंबर 7 में सिद्धार्थ जैन उर्फ मोगली के प्राइवेट गोदाम से खाद विभाग ने 135 बोरी सरकारी गेहूं भी बरामद किया, इसी मामले को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत की है। 

बिसाहूलाल 2018 के चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीते थे, लेकिन कमलनाथ सरकार गिरानेवालों के श्रेणी में उनका नाम सबसे पहले आया। बिसाहूलाल का दुख ये था कि उन्हें मंत्री नहीं बनाया गया और इसी से नाराज़ होकर उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया था। मार्च महीने में कांग्रेस की सरकार गिरने के बाद बनी बीजेपी की सरकार में वो खाद्य मंत्री बन गए। लेकिन खाद्य मंत्री बनने के बाद उनके ऊपर अपने ही इलाके के पीडीएस राशन में घोटाले के आरोप लगने लगे हैं। बिसाहू लाल उस इलाके से आते हैं, जो आदिवासी बहुल इलाका है और इस इलाके में गरीब आबादी भी बहुत ज्यादा है। कांग्रेस का आरोप है कि किसी भी तरह चुनाव जीतने के लिए बिसाहूलाल ने गेहूं की कालाबाज़ारी का रास्ता अख्तियार कर लिया है। उनसे मुकाबले के लिए कांग्रेस ने अनूपपुर विधानसभा सीट से विश्वनाथ सिंह कुंजाम को अपना प्रत्याशी घोषित किया है।