MP: शहर सरकार के लिए वोटिंग शुरू, पहले चरण में 11 निगमों के लिए हो रहा चुनाव, वोटर न करें ये गलती

प्रथम चरण में 11 नगरपालिक निगम में महापौर पद के 101 अभ्यर्थी मैदान में हैं। कुल 133 नगरीय निकाय में 2850 पार्षद के पद हैं। इनमें से 42 निर्विरोध चुने जा चुके हैं। शेष 2808 पद पर निर्वाचन होना है। इसके लिए 11 हजार 250 अभ्यर्थी चुनाव लड़ रहे हैं।

Updated: Jul 06, 2022, 11:32 AM IST

MP: शहर सरकार के लिए वोटिंग शुरू, पहले चरण में 11 निगमों के लिए हो रहा चुनाव, वोटर न करें ये गलती

भोपाल। मध्य प्रदेश में नगर सरकार के चुनाव के लिए आज पहले चरण की वोटिंग सुबह 7 बजे से शुरू हो गई है। आज प्रदेशभर के 11 नगर निगमों के चुनाव हो रहे हैं। इनमें भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, खंडवा, बुरहानपुर, जबलपुर, छिंदवाड़ा, उज्जैन, सागर, सिंगरौली और सतना शामिल हैं। इसके अलावा 36 नगर पालिका और 86 नगर परिषद में मतदान हो रहे हैं। वोटिंग सुबह 7 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक चलेगा।

प्रथम चरण में वोटिंग के लिए कुल 13 हजार 148 मतदान केन्द्र बनाये गए हैं। इनमें से 3296 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। मतदान दलों में लगभग 79 हजार कर्मचारी-अधिकारियों की ड्यूटी लगायी गयी है। लगभग 27 हजार पुलिस बल को डिप्लॉय किया गया है। प्रथम चरण में 11 नगरपालिक निगम में महापौर पद के 101 अभ्यर्थी चुनाव मैदान में हैं। कुल 133 नगरीय निकाय में 2850 पार्षद के पद हैं। इनमें से 42 पद पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। शेष 2808 पद पर निर्वाचन होना है। इसके लिए 11 हजार 250 अभ्यर्थी चुनाव लड़ रहे है।

प्रथम चरण में एक करोड़ 4 लाख 41 हजार 897 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। इनमें से 53 लाख 62 हजार 457 पुरूष और 50 लाख 78 हजार 635 महिला तथा 805 अन्य मतदाता हैं। नगरपालिक निगम ग्वालियर में 10 लाख 68 हजार 267 मतदाता, सागर में 2 लाख 22 हजार 584, सतना में 2 लाख 14 हजार 188, सिंगरौली में 2 लाख 5 हजार 886, जबलपुर में 9 लाख 76 हजार 61, छिंदवाड़ा में एक लाख 90 हजार 742, भोपाल में 17 लाख 6 हजार 735, खंडवा में एक लाख 75 हजार 644, बुरहानपुर में एक लाख 77 हजार 666, इंदौर में 18 लाख 35 हजार 955 और उज्जैन में 4 लाख 61 हजार 169 मतदाता हैं। इस तरह से सर्वाधिक मतदाता इंदौर और सबसे कम मतदाता खंडवा नगरपालिका निगम में हैं।

मतदाताओं के लिए ध्यान देने योग्य बात ये है कि इस बार नगर निगम सीमा में वोटरों को महापौर सहित पार्षद के लिए भी मतदान करना है। दरअसल, मतदान के लिए मतदान केंद्र पर दो अलग-अलग ईवीएम मशीने इंटरलिंक की गई हैं। इन ईवीएम मशीनों पर हर मतदाता को 2 बार वोट करना होगा। 1 महापौर प्रत्याशी के लिए और दूसरा पार्षद प्रत्याशी के लिए बटन को दबाना होगा। इस बार राज्य निर्वाचन आयोग ने वोटरों के लिए 1 नई शर्त भी जोड़ी है। इसके मुताबिक शत प्रतिशत मतदान करने के लिए महापौर समेत पार्षद पद के लिए भी बटन दबाना होगा। किसी 1 बटन को दबाने से मतदान पूरा नहीं माना जाएगा।

शुरुआती माहौल को देखा जाए तो 11 में 9 सीटें ऐसी हैं जहां कांग्रेस और बीजेपी में सीधा मुकाबला है। राजधानी भोपाल और इंदौर पर दोनों दलों की खास नजर है। राजधानी भोपाल से मेयर पद के लिए कांग्रेस ने विभा पटेल को मैदान में भेजा है वहीं बीजेपी की ओर से मालती राय चुनाव लड़ रही हैं। वहीं इंदौर से कांग्रेस के दिग्गज विधायक संजय शुक्ला मैदान में हैं, जबकि बीजेपी ने अधिवक्ता रहे पुष्यमित्र भार्गव को प्रत्याशी बनाया है।

भोपाल में देर रात चलता रहा बवाल

राजधानी भोपाल में वोटिंग से पहले देर रात तक खूब हंगामा देखने को मिला। वॉर्ड 43 में बीजेपी कैंडिडेट द्वारा घड़ी बांटे जाने के मामले में एमपी नगर थाने में लोगों का जमावड़ा लगा हुआ था। उधर देर रात कई जगहों से शराब बांटने की भी खबरें आई। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने रात के करीब बारह बजे ट्वीट किया कि हुजूर विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी एमएलए 8-10 गाड़ियों से घूम रहे हैं और शराब बांट रहे हैं।

उन्होंने मिसरोद इलाके में शराब बांटने का वीडियो भी शेयर किया है और बताया कि उन्होंने मिसरोद टी आई को फोन किया था लेकिन पुलिस अधिकारी ने गाड़ी में शराब होने से साफ इनकार कर दिया, जबकि वीडियो में देखा जा सकता है कि थैलियों में शराब पड़े हैं।