कांग्रेस MLA ने मंच से छुए सिंधिया के पैर, पाला बदलने की अटकलें तेज

ग्वालियर पूर्व से कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार ने ज्योतिरादित्य सिंधिया से पैर छूकर लिया आशीर्वाद, सिंधिया परिवार का यशोगान भी किया, सियासी गलियारे में पाला बदलने की चर्चा

Updated: Dec 27, 2021, 12:34 PM IST

कांग्रेस MLA ने मंच से छुए सिंधिया के पैर, पाला बदलने की अटकलें तेज

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार का एक वीडियो सामने आया है। इसमें वे केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का पैर छूकर आशीर्वाद ले रहे हैं। कांग्रेस विधायक ने सिंधिया का पैर छूकर सियासी हलचलें बढ़ा दी है। अब इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि सिकरवार एक बार फिर से पाला बदल सकते हैं।

जानकारी के मुताबिक रविवार को ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में दीनदयाल नगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के शिलान्यास का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में बतौर चीफ गेस्ट केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को बुलाया गया था। स्थानीय विधायक होने के नाते सतीश सिकरवार भी वहां पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें: रायपुर धर्म संसद में महात्मा गांधी को गाली, उनके हत्यारे गोडसे को नमस्कार, संत कालीचरण के ख़िलाफ़ केस दर्ज

सतीश सिकरवार ने मंच पर चढ़ने के साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व मंत्री माया सिंह के पैर छूकर सबको चौंका दिया। इतना ही नहीं कार्यक्रम के दौरान वह सिंधिया परिवार का यशोगान भी करते नजर आएं। इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा का बाजार गर्म हो गया है। माना जा रहा है कि सिकरवार एक बार फिर से पलटी मार सकते हैं।

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब सिकरवार ने सिंधिया के सम्मान में कसीदे पढ़ें हों। बीते कुछ समय से सिंधिया को लेकर उनके विचारों में बदलाव देखा जा रहा है। सिकरवार पहले बीजेपी में ही थे। उन्हें साल 2018 के विधानसभा चुनाव में ग्वालियर पूर्व से बीजेपी ने टिकट दिया था। हालांकि, तब वे सिंधिया समर्थक कांग्रेस उम्मीदवार मुन्नालाल गोयल से चुनाव हार गए।

यह भी पढ़ें: भाजपा सांसद डामौर पर कोर्ट ने किया मुकदमा दर्ज, 600 करोड़ के घोटाले का आरोप

मार्च 2020 में सिंधिया खेमे ने जब पाला बदला तो मुन्नालाल गोयल ने भी बीजेपी जॉइन की। इसके बाद नवंबर 2020 में हुए उपचुनाव के दौरान बीजेपी से मुन्नालाल गोयल चुनाव लड़े थे। इस दौरान सतीश सिकरवार ने भाजपा से इस्तीफा देकर कांग्रेस की सदस्यता ली। कांग्रेस ने सिकरवार पर भरोसा करते हुए उन्हें विधानसभा चुनाव का टिकट दिया और वे जितने में भी कामयाब रहे। लेकिन कांग्रेस से चुनाव जीतने के बाद भी अब वे बीजेपी नेताओं की तारीफ करने लगे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि वे कभी भी पाला बदलकर कांग्रेस को झटका दे सकते हैं।