MP: कोरोना काल में माफ बिजली बिलों की वसूली शुरू, यूथ कांग्रेस प्रदेशभर में जलाएगी बिलों की होली

वादे से पलटी शिवराज सरकार, कोरोना काल में माफ बिजली बिलों की डेढ़ साल बाद नोटिस भेजकर वसूली शुरू, बिल देखकर उपभोक्ता परेशान

Updated: Dec 15, 2021, 05:24 PM IST

MP: कोरोना काल में माफ बिजली बिलों की वसूली शुरू, यूथ कांग्रेस प्रदेशभर में जलाएगी बिलों की होली

भोपाल। कोरोना की पहली लहर के दौरान मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने कई लोक लुभावने वादे किए थे। इनमें बिजली बिल माफी का बहुचर्चित ऐलान भी शामिल है। लेकिन अब डेढ़ साल बाद सरकार ने उस समय की बिलों की वसूली शुरू कर दिया है। सरकार के इस रवैये पर यूथ कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताते हुए प्रदेशभर में विरोध का ऐलान किया है।

एमपी यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ विक्रांत भूरिया ने कहा है कि, 'बिजली बिल माफी या तो सीएम शिवराज की झूठी घोषणा थी या फिर उनकी याददाश्त कमजोर हो गया है। हम बिजली के बिलों की अनैतिक वसूली के खिलाफ प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे।' भूरिया ने बताया कि आगामी 17 से 19 दिसंबर तक प्रदेशभर में यूथ कांग्रेस कार्यकर्ता बिजली बिलों की होली जलाएंगे।

यह भी पढ़ें: ठेला नहीं लगाएंगे तो खाएंगे क्या, इंदौर में ठेलेवालों पर नगर निगम का एक्शन, सड़क पर फेंका सामान

दरअसल, कोरोना काल में आर्थिक संकट से जूझ रहे लोगों को राहत पहुंचाने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बिजली बिलों को माफ करने का ऐलान किया था। मुख्यमंत्री ने कहा थ की जिनकी बिल 100 रुपए है उनसे सिर्फ 50 रुपए लिया जाएगा, वहीं जिसका बिल 100 से 400 रुपए होंगे उनसे सिर्फ 100 रुपए लिया जाएगा और 400 से ज्यादा होने पर 50 फीसदी कम बिल जमा करना होगा। 

यह अप्रैल, मई और जून महीने के लिए था। इसके बाद उपचुनाव प्रचार के दौरान मुरैना जिले के दिमनी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि कोरोना काल का बिजली का बिल माफ होगा, चालू महीने का ही बिजली का बिल जमा करना होगा। बाकी बिजली का बिल सरकार भरेगी। हालांकि, दूसरी जगह सीएम चौहान ने सिर्फ स्थगन का जिक्र किया था। 

उपचुनाव के दौरान भिंड जिले के मेहगांव पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि मेरे भाइयों आप चिंता मत करना, मैंने सारे बिजली के बिल स्थगित कर दिए हैं। कांग्रेस ने तब भी यह सवाल उठाया था कि बिजली बिल माफ हुए हैं या स्थगित हुई है, सरकार ये स्पष्ट करे, चूंकि स्थगन होने की स्थिति में भविष्य में वसूली होगी। अंततः डेढ़ साल बाद यह शंका सही साबित हुई और बिजली विभाग ने प्रदेश भर में बकाया बिल अतिरिक्त फाइन के साथ वसूलना शुरू कर दिया। 

उपभोक्ता भी इस बात को लेकर हैरान हैं कि जब पिछले वर्ष कोरोना काल में सरकार ने बकाया राशि माफ कर दी थी फिर एक साल बाद इसकी वसूली कैसे हो रही है। दरअसल, कोरोना काल में माफ/स्थगित हुए बिलों की वसूली के लिए प्रदेश सरकार ने समाधान योजना शुरू की है। इसके तहत बकाया राशि एकमुश्त जमा करने पर 40 फीसद राशि सरचार्ज सहित माफ हो जाएगी। वहीं जो लोग किस्तों में जमा करना चाहते हैं उनकी 25 फीसद राशि ही माफ होगी।