MP में बड़े बदलाव के आसार, विजयवर्गीय से मिलने पहुंचे सिंधिया, भाजपा कार्यसमिति की बैठक स्थगित

ज्योतिरादित्य सिंधिया इंदौर में कैलाश विजयवर्गीय से मिलने पहुंचे, यहां उन्होंने कहा कि पार्टी जो भी बीड़ा देगी उसे नए जोश के साथ करूंगा, कांग्रेस ने कहा है कि 10 दिनों के भीतर सीएम शिवराज की विदाई तय है

Updated: Aug 22, 2022, 06:59 PM IST

MP में बड़े बदलाव के आसार, विजयवर्गीय से मिलने पहुंचे सिंधिया, भाजपा कार्यसमिति की बैठक स्थगित

भोपाल/इंदौर। मध्य प्रदेश में सियासी घटनाक्रम तेजी से बदलते जा रहे हैं। गृहमंत्री अमित शाह भोपाल दौरे पर हैं। प्रदेश बीजेपी में नेतृत्व परिवर्तन की सुगबुगाहट है। इसी बीच ज्योतिरादित्य सिंधिया अचानक इंदौर पहुंच गए। इंदौर पहुंचते ही वे सीधे बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से मिलने पहुंचे। सिंधिया के इंदौर दौरे के बाद अब नेतृत्व परिवर्तन की अटकलें और तेज हो गई है।

खास बात ये है कि सिंधिया अपने बेटे महाआर्यमन को भी लेकर पहुंचे थे। इस दौरान बीजेपी महासचिव ने कहा कि अरे आप युवराज को साथ लेकर आए हैं? इसपर सिंधिया ने कहा कि मैं आपके लिए सरपराइज लेकर आया हूं।

विजयवर्गीय के घर पत्रकारों से बातचीत के दौरान सिंधिया ने कहा कि, 'आज एक पारिवारिक वातावरण में कैलाश जी के यहां आया हूं। मैं मानता हूं कि उनके मार्गदर्शन में पार्टी आगे आम कार्यकर्ता के रूप में मुझे क्षेत्र और प्रदेश के विकास का बीड़ा सौंपेगी, उसे नई उमंग और नए जोश के साथ कार्य करूंगा। कैलाश विजयवर्गीय के साथ मिलकर इसे करेंगे। आज उज्जैन में महाकाल की सवारी के लिए इंदौर आया था, तो सोचा कि कैलाश जी से भी मिल लूं।' 

भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से पश्चिम बंगाल का प्रभार ले लिया गया है। इसके बाद माना जा रहा था कि वे मध्य प्रदेश की राजनीति में सक्रिय होंगे। उधर सीएम शिवराज सिंह चौहान को भी बीजेपी में संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि प्रदेश में बीजेपी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री दोनों बदले जाएंगे। हालांकि, बीजेपी नेताओं ने इस बारे में कोई टिपण्णी नहीं की है।

यह भी पढ़ें: खराब मौसम की भेंट चढ़े अमित शाह के दो कार्यक्रम, बारिश के चलते CM योगी और भूपेश बघेल का भोपाल दौरा रद्द

प्रदेश बीजेपी ने इस महीने होने वाले तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग और कार्यसमिति की बैठक को भी स्थगित कर दिया है। बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने इस बात की जानकारी दी है। हालांकि, उन्होंने इसके लिए खराब मौसम को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि कार्यसमिति में प्रदेशभर से लोगों को आना था। भारी बारिश के कारण इसे स्थगित किया गया है।

उधर विपक्षी दल कांग्रेस का दावा है कि 10 दिनों के भीतर सीएम चौहान की विदाई हो जाएगी। एमपी कांग्रेस के सीनियर नेता व विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान को संसदीय बोर्ड से हटा दिया गया है और अब वे ज्यादा दिन मुख्यमंत्री भी नहीं रहेंगे। अगले 10 दिनों के भीतर सीएम चौहान का विदाई तय है।