Mehgaon: मेहगांव में EVM तोड़ने, फायरिंग करने वालों पर FIR, कांग्रेस ने की थी शिकायत

उपचुनाव के दौरान दबंगों ने सोंधा पोलिंग बूथ पर फायरिंग कर मतदान को प्रभावित करने का किया था प्रयास, लिलोई में तोड़ी थी EVM

Updated: Nov 07, 2020, 01:05 PM IST

Mehgaon: मेहगांव में EVM तोड़ने, फायरिंग करने वालों पर FIR, कांग्रेस ने की थी शिकायत
Photo Courtesy: News18

भिंड। मेहगांव में उपचुनाव के दौरान पोलिंग बूथ फायरिंग और ईवीएम तोड़ने की घटनाओं में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। मेहगांव से कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे के शिकायत के बाद प्रशासन ने अपराधियों के खिलाफ यह बड़ी कार्रवाई की है। उपचुनाव के दौरान यहां विभिन्न जगहों पर बदमाशों द्वारा खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाने पर प्रशासन के कोई कार्रवाई न करने के बाद हेमंत कटारे ने निर्वाचन आयोग पर पक्षपात करने का आरोप लगाया था। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक भिंड जिला पुलिस ने उपचुनाव के दौरान मेहगांव विधानसभा के सोंधा पोलिंग बूथ क्रमांक 102 के पास फायरिंग कर मतदाताओं को डराने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 336 व 34 के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं लिलोई पोलिंग स्टेशन पर मतदान के दौरान मामूली कहासुनी होने को लेकर ईवीएम मशीन तोड़े जाने के मामले में आरोपी नरेंद्र सिंह भदौरिया समेत एक अन्य उपद्रवी पर धारा 353 सहित आधा दर्जन अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। यह दोनों पोलिंग बूथ भिंड जिले के गोरमी थाना क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं।

बता दें कि मेहगांव गोलीकांड व अन्य मामले को लेकर कांग्रेस ने लगातार निर्वाचन आयोग और जिला प्रशासन पर सवाल खड़े किए थे। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर बताया था कि उन्होंने प्रशासन को पहले ही इन घटनाओं के लिए आगाह किया था। पूर्व सीएम ने कहा था कि समय रहते प्रशासन यदि सतर्क हो जाता तो ऐसी  घटनाएं नहीं होती। दिग्विजय सिंह ने इन मामलों पर फौरन कार्रवाई करने की मांग की थी।

वहीं मेहगांव से कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे ने इन घटनाओं को लेकर सीधा निर्वाचन आयोग पर पक्षपात करने का आरोप लगाया था। कटारे ने कहा था कि उपचुनाव के दौरान निर्वाचन आयोग का कामकाज निष्पक्ष नहीं था और वोटिंग के दौरान लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की गई। कटारे का आरोप था कि बीजेपी के लोगों ने पहले तो सोंधी में फायरिंग कर मतदान को प्रभावित करने की कोशिश की, उसके बाद लिलोई गांव में उन्हीं लोगों ने ईवीएम तोड़ डाली। बीजेपी प्रत्याशी के गुंडे वोटर्स को धमकाते रहे और प्रशासन मूकदर्शक बना रहा।

वोटिंग के दौरान मेहगांव में हुई थी कई गड़बड़ियां

बता दें कि मेहगांव में वोटिंग शुरू होने के बाद सुबह से ही लगातार गड़बड़ियों की खबरें आ रही थीं। उपचुनाव शुरू होने के तुरंत बाद मेहगांव के बीजेपी प्रत्याशी ओपीएस भदौरिया पुलिस को धमकी देते देखे गए थे, जिसका वीडियो वायरल हो रहा था। साथ ही मेहगांव के इंदिरानगर कॉलोनी स्थित पोलिंग बूथ पर पीठासीन अधिकारियों द्वारा मतदाताओं की उंगली पर स्याही नहीं लगाई जा रही थी और पूछने पर अधिकारी गलती से छूट जाने का बहना बना रहे थे।

इसके बाद मेहगांव के सोंधा व पचेरा गांव में बूथ पर गोलीबारी की घटना हुई। वहीं लिलोई गांव में तो अपराधियों ने बूथ पर जाकर ईवीएम को ही तोड़ दिया। विधानसभा क्षेत्र में इन घटनाओं का असर वोटिंग परसेंटेज पर भी पड़ा है। मेहगांव में कुल 61.18 फीसदी ही मतदान हुए हैं। इस विधानसभा सीट पर बीजेपी प्रत्याशी ओपीएस भदौरिया और कांग्रेस के हेमंत कटारे के बीच कांटे की टक्कर है।