मैनिफेस्टो बनाने में जुटी कांग्रेस, कमलनाथ की विधायकों को नसीहत, गाड़ी से उतरकर जनता के बीच जाएं

राजेंद्र कुमार सिंह की अध्यक्षता में मैनिफेस्टो बनाने के लिए कमेटी गठित, प्रैक्टिकल अप्रोच अपनाने पर जोर, जिला स्तर पर घोषणापत्र तैयार करने की रणनीति, दूसरे राज्यों में जाकर उनके अच्छे काम देखेंगे कमेटी के सदस्य, बेस्ट मैनिफेस्टो चाहते हैं कमलनाथ

Updated: May 26, 2022, 06:35 PM IST

मैनिफेस्टो बनाने में जुटी कांग्रेस, कमलनाथ की विधायकों को नसीहत, गाड़ी से उतरकर जनता के बीच जाएं

भोपाल। मिशन 2023 के लिए मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी मैनिफेस्टो तैयार करने में जुट गई है। इसके लिए एक कमेटी गठित की गई है जिसे प्रदेश और जिलास्तर पर वचन पत्र तैयार करने का टास्क दिया गया है। बीते दिनों हुई मैनिफेस्टो कमेटी के बैठक में पीसीसी चीफ कमलनाथ ने कहा कि हमें बेस्ट मैनिफेस्टो चाहिए।

कांग्रेस ने राजेंद्र कुमार सिंह की अध्यक्षता में मैनिफेस्टो कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी में बाला बच्चन, सज्जन वर्मा, विजयलक्ष्मी साधौ, एन पी प्रजापति, लाखन सिंह यादव, मुकेश नायक, सुखदेव पाँसे, ओमकार मरकाम, तरुण भनोट, कमलेश्वर पटेल, आरिफ़ मसूद, फूल सिंह 'बरैया, सैयद साजिद अली, शोभा ओझा, वी के बाथम, केदार सिरोही, वीरेन्द्र खोंगल, महेन्द्र सिंह शामिल हैं। 

यह भी पढ़ें: छूना नहीं हमें, अछूत आदमी, संत धीरेंद्र महाराज ने अछूत कहकर भक्त को पैर छूने से रोका

इसके अलावा कमेटी के विशेष आमंत्रित सदस्य में पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पूर्व पीसीसी चीफ सुरेश पचौरी, राज्यसभा सांसद विवेक तंखा, पूर्व पीसीसी चीफ कांतिलाल भूरिया, अजय सिंह राहुल, अरुण यादव और मीनाक्षी नटराजन भी शामिल हैं। इस महीने के पहले हफ्ते में कमेटी की बैठक भी हो चुकी है। जानकारी के मुताबिक शुरुआती दौर में हर महीने में इस कमेटी की एक बैठक होगी और चुनाव नजदीक आते आते हफ्ते में एक बैठक होगी। कमलनाथ ने इस कमेटी की बैठक के लिए एक अलग स्थान तय करने का भी निर्देश दिया है, जहां कमेटी के सदस्य अपना काम करें और गोपनीयता बनी रहे।

कमेटी के एक सदस्य ने बताया कि वे कांग्रेस शासित राजस्थान और छत्तीसगढ़ का दौरा करेंगे और वहां के अच्छे स्कीम को लेकर ड्राफ्ट तैयार करेंगे। साथ ही यदि गैर कांग्रेस शासित राज्यों में भी कोई अच्छी योजना होगी तो उसे वाचनपत्र में शामिल किया जाएगा। वचनपत्र में आदिवासी, किसान, महिलाओं और युवाओं के मुद्दे पर खास ध्यान दिया जाएगा। साथ ही कमेटी के लोगों को यह भी कहा गया है कि जिलास्तर पर स्थानीय मुद्दों को चिन्हित कर लाएं, ताकि प्रत्येक जिलों के लिए अलग से घोषणापत्र तैयार किया जा सके। कमलनाथ ने कमेटी को कहा है की ऐसे मुद्दे ही लाएं जिन्हें सरकार बनने के बाद पूरा किया जा सके और जो प्रैक्टिकल हो।

यह भी पढ़ें: घर जाकर खाना बनाओ, NCP सांसद सुप्रिया सुले पर महाराष्ट्र बीजेपी चीफ ने किया सेक्सिस्ट कमेंट

बता दें कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह मिशन 2023 की तैयारियों में युद्धस्तर पर जुट गए हैं। उनका पूरा ध्यान कांग्रेस के संगठन को एकजुट और मजबूत करने पर है। हाल ही में कांग्रेस ने सभी सीटों पर एक आंतरिक सर्वे भी कराया था। सूत्र बताते हैं कि इसमें करीब 30 विधायकों की रिपोर्ट निगेटिव थी। इसके बाद कमलनाथ ने सभी को निर्देश दिया कि वे ज्यादातर समय अपने क्षेत्र में ही दें। साथ ही कुछ विधायकों को विशेष तौर पर कहा गया है कि वे गाड़ी छोड़कर पैदल लोगों के बीच जाएं, उनकी समस्या जानें और उन्हें हल करेंगे। कमलनाथ ने इस बात के भी संकेत दिए हैं कि आने वाले समय में जिन नेताओं का सर्वे रिपोर्ट निगेटिव होगा उन्हें कांग्रेस टिकट नहीं देगी।