MP: खराब फसल के सदमे से किसान की मौत, पंप का इंजन बेचकर परिजनों ने किया अंतिम संस्कार

सोयाबीन का बीज महंगा होने के कारण किसान ने इस बार उड़द की बोवनी की थी, लगातार वर्षा से खेत में रखी फसल खराब हो गई, सदमे में किसान ने दम तोड़ दिया

Updated: Sep 25, 2022, 04:32 PM IST

MP: खराब फसल के सदमे से किसान की मौत, पंप का इंजन बेचकर परिजनों ने किया अंतिम संस्कार

अशोकनगर। मध्य प्रदेश के अशोकनगर में फसल खराब होने के सदमे से एक किसान की मौत हो गई। मृतक किसान के परिजनों की आर्थिक हालत इतनी खराब थी कि उनके पास अंतिम संस्कार तक के पैसे नहीं थे। अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को खेत में रखे पंप का इंजन तक बेचना पड़ गया।

जानकारी के मुताबिक अशोकनगर जिले के राजपुर क्षेत्र अंतर्गत छीपोन गांव निवासी 40 वर्षीय किसान लल्लीराम कुशवाह की तीन दिन पहले खेत में मौत हो गई थी। उनके भतीजे मुनेश कुशवाह ने बताया कि चाचा के पास लगभग आठ बीघा जमीन थी। सोयाबीन का बीज महंगा होने के कारण उन्होंने उड़द की बोवनी की थी। लेकिन लगातार हो रही वर्षा के चलते खेत में कटी रखी फसल खराब हो गई।

यह भी पढ़ें: एमपी में बदहाल किसान, 6 बोरी प्याज लेकर आया था मंडी, 2 रु लेकर लौटा घर

मुनेश के मुताबिक उन्होंने जैसे ही देखा कि फसल खराब हो गई वे चक्कर खाकर गिर पड़े। वह ये सदमा बर्दाश्त नहीं कर सके और मौके पर ही दम तोड़ दिया। ग्रामीणों ने बताया कि लल्लीराम की कोई संतान नहीं है। उनकी पत्नी के पास अंतिम संस्कार के लिए पैसे भी नहीं थे। भतीजा मुनेश का कहना है कि संकोच के कारण हमने किसी से अंतिम संस्कार के लिए आर्थिक मदद नहीं मांगी। खेत में रखे इंजन को छह हजार रुपये में कबाड़ी को बेचकर चाचा के अंतिम संस्कार व अन्य क्रियाकर्म की व्यवस्था की।

गांव की सरपंच आयशा बानो ने कहा कि लल्लीराम के स्वजन बताते कि अंतिम संस्कार के लिए पैसे नहीं है तो हम जरूर आर्थिक मदद करते। जानकारी लगी तो मृतक किसान के दस्तावेज लेकर राजस्व अधिकारियों को भिजवाए गए। मामले पर तहसीलदार गजेंद्र सिंह लोधी ने कहा कि किसान की मौत की जानकारी मिलने पर उसके स्वजन को तत्काल सहायता पहुंचाई गई।