जो BJP को वोट देगा वो सबसे बड़ा निकम्मा, बीजेपी नेता ने ही प्रतिमा बागरी के खिलाफ खोला मोर्चा

मध्य प्रदेश उपचुनाव में अपनों की ओर से विरोध भाजपा के लिए बना मुसीबत का सबब, पृथ्वीपुर के बाद अब रैगांव में भी कार्यकर्ता कर रहे हैं अपनी ही पार्टी का खुला विरोध

Updated: Oct 29, 2021, 04:38 PM IST

जो BJP को वोट देगा वो सबसे बड़ा निकम्मा, बीजेपी नेता ने ही प्रतिमा बागरी के खिलाफ खोला मोर्चा

रैगांव। उपचुनाव से पहले भाजपा के लिए भीतरघात बड़ी मुसीबत का सबब बनता जा रहा है। शीर्ष नेतृत्व द्वारा भीतरघात के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के बाद अब भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी अपनी पार्टी का खुला विरोध शुरू कर दिया है। ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है जिसमें खुद को भाजपा का सच्चा कार्यकर्ता बताने वाला एक व्यक्ति कह रहा है कि जो बीजेपी को वोट देगा वह सबसे बड़ा निकम्मा है। सोशल मीडिया पर नाराज भाजपा कार्यकर्ता का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

मामला रैगांव विधानसभा क्षेत्र का है जहां भाजपा ने प्रतिमा बागरी को अपना उम्मीदवार बनाया है वहीं कांग्रेस की टिकट पर कल्पना वर्मा ताल ठोक रही हैं। वीडियो में दिख रहे बीजेपी कार्यकर्ता का नाम राजेंद्र त्रिपाठी बताया जा रहा है। त्रिपाठी कैमरे पर बोल रहे हैं कि जो बीजेपी को वोट देगा उससे बड़ा निकम्मा कोई नहीं होगा। बीजेपी सांसद गणेश सिंह ने ही यहां का विनाश किया है। मैं बीजेपी का असली कार्यकर्ता हूं। लेकिन यहां विकास नहीं विनाश हुआ है।' 

बताया जा रहा है कि राजेंद्र त्रिपाठी विगत कई वर्षों से बीजेपी से जुड़े हुए हैं। वे बीजेपी के लिए चुनाव कार्यालय प्रभारी भी रह चुके हैं और स्थानीय मतदाताओं में उनकी खासी पैठ मानी जाती है। वोटिंग से एक दिन पहले त्रिपाठी के बगावत के बाद अब माना जा रहा है कि रैगांव में बीजेपी के लिए राहें आसान नहीं होने वाली है। 

यह भी पढ़ें: चुनाव जीतना है, चाहे कितने मरे, कितने पर केस हो, कहा गया है 70 बूथ लूट लो: BJP नेता की सरेआम धमकी

बता दें कि कल ही भाजपा हाईकमान ने पृथ्वीपुर विधानसभा क्षेत्र के अपने कद्दावर नेता अवधेश प्रताप सिंह पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाकर उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया था। माना जा रहा था कि प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने इस कार्रवाई के जरिए भीतरघात करने वालों को यह संदेश देने का प्रयास उनके खिलाफ भी कार्रवाई हो सकती है। लेकिन इसके उलट अब नतीजा यह दिख रहा है कि भीतरघात ने खुला विरोध का रूप ले लिया है।