शिवपुरी: वनभूमि पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में हिंसक झड़प, गोलीबारी में एक की मौत, कई घायल

शिवपुरी जिले के शेरगढ़ गांव में वनभूमी पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में हिंसक झड़प हुई, इस घटना में एक व्यक्ति की मौत होने की सूचना है, जबकि कई अन्य घायल हैं।

Updated: Sep 22, 2022, 01:32 PM IST

शिवपुरी: वनभूमि पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में हिंसक झड़प, गोलीबारी में एक की मौत, कई घायल

शिवपुरी। मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में वनभूमी पर कब्जे को लेकर दो गुटों में हिंसक झड़प हुई। इस खूनी संघर्ष में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हैं। घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति को ग्वालियर रेफर किया गया है।

घटना शिवपुरी जिले के नरवर थाना अंतर्गत शेरगढ़ गांव की है। रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां वनभूमि पर कब्जे को लेकर दो समाज के लोग भिड़ गए। देखते ही देखते विवाद ने हिंसक रूप धारण कर लिया और गोलीबारी शुरू हो गई। गोलीबारी में लाल सिंह बघेल नामक व्यक्ति की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की पोल खोलती तस्वीर, गुना के शासकीय स्कूल में टॉयलेट साफ कर रही बेटियां

जानकारी के अनुसार शेरगढ़ गांव से सटे 200 बीघा वन भूमि पर दबंगों ने अतिक्रमण कर लिया है। इस पर उन्‍होंने मूंगफली की फसल लगाई है। उन्‍होंने भूमि के चारों ओर तार की फेंसिंग भी कर दी है। फेंसिंग होने के कारण गांव के पशु जंगल में चरने के लिए नहीं जा पा रहे थे। स्‍थानीय लोग इस अवैध कब्जे का विरोध कर रहे थे।

बीते दिन जनसुनवाई में शेरगढ़ के ग्रामीण इस अतिक्रमण की शिकायत करने शिवपुरी आए थे। ग्रामीणों ने वन विभाग को आवेदन सौंपकर भूमि को अतिक्रमण से मुक्त करने की गुहार लगाई। इसी बात को लेकर अतिक्रमणकारी भड़क गए। बुधवार सुबह वे हथियारों से लैस होकर वे ग्रामीण लाल सिंह के घर पहुंचे और धावा बोल दिया।

यह भी पढ़ें: बेटियां बेचकर पुलिस को रिश्वत देने के लिए मजबूर हैं लोग, BJP सांसद ने खोली बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की पोल

आरोपियों ने लाल सिंह को लाठी-तलवार से मारना शुरू कर दिया। जब बीच बचाव में उनके परिजन पहुंचे तो दबंगों ने गोलीबारी शुरू कर दी। इस खूनी झड़प में कई लोग घायल हो गए। गंभीर रूप से घायल लाल सिंह को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। इस झड़प में आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं, जिन्हें इलाज के लिए शिवपुरी जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। जबकि गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति को ग्वालियर रेफर किया गया है।

घटना के बाद इलाके में तनाव का माहौल है। पीड़ित पक्ष का कहना है कि यदि मामले में वन विभाग द्वारा समय पर अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई होती तो यह घटना नहीं होती। पीड़ित पक्ष ने शव के पोस्‍टमार्टम से पहले आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रकरण में सख्त कार्रवाई की मांग को लेकर चक्का जाम भी किया।