बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद का कमाल, 5 साल में 12 साल बढ़ी उम्र

चुनावी हलफ़नामे के मुताबिक़ साल 2005-10 के बीच एक साल ही बढ़ी उनकी उम्र, 2010-15 में हुई 3 साल की बढ़ोतरी तो 2015 से 2020 के बीच 12 साल बढ़ गई उम्र

Updated: Nov 22, 2020, 01:55 PM IST

बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद का कमाल, 5 साल में 12 साल बढ़ी उम्र
Photo Courtesy : Scroll.in

पटना। बिहार के नए उप-मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता तारकिशोर प्रसाद कमाल के बारे में एक कमाल की जानकारी सामने आई है मीडिया में आई खबरों के मुताबिक उनकी उम्र दिन-महीने-साल के हिसाब से नहीं बढ़ती। उनकी मर्ज़ी से बढ़ती है। जब चाहा, उम्र बढ़ने की रफ्तार कम हो गई, जब चाहा दोगुनी हो गई। पांच साल में उनकी उम्र कभी एक ही साल बढ़ती है, कभी तीन साल तो कभी 12 साल भी बढ़ सकती है। आप सोच रहे होंगे, भला ये क्या बात हुई! तो आपको बता दें कि ये हम नहीं कर रहे, खुद बीजेपी के दिग्गज नेता और डिप्टी सीएम साहब के अपने हलफनामे ऐसा बता रहे हैं।

मीडिया में आई जानकारी के मुताबिक बीजेपी नेता तारकिशोर प्रसाद ने साल 2005 में विधानसभा चुनाव के नॉमिनेशन के दौरान अपने हलफनामे में जो जानकारी दी थी, उसके मुताबिक उस वक्त वे 48 साल के थे। लेकिन इसके 5 साल बाद 2010 के चुनावी हलफनामे में उन्होंने अपनी उम्र महज 49 साल बताई। यानी पांच साल में उनकी उम्र सिर्फ एक साल ही बढ़ी थी! इसके और 5 साल बाद 2015 में उन्होंने जो हलफनामा दिया, उसमें उनकी उम्र बढ़ने की रफ्तार थोड़ी बढ़ गई और वो 52 साल के हो गए। यानी इन पांच वर्षों में नेताजी की उम्र तीन साल आगे बढ़ी। और 2005 से 2015 के बीच के दस सालों में सिर्फ 4 साल! 

लेकिन 2005 से 2015 के दरमियान तारकिशोर प्रसाद की जिस उम्र पर लगाम लगी हुई थी, वो अगले पांच साल में सारे बंधन तोड़कर बेलगाम बढ़ गई। जी हां, साल 2015 से 2020 के 5 वर्षों के दौरान उनकी उम्र के बढ़ने की रफ्तार दुगनी से भी ज़्यादा रही। नतीजतन इन पांच वर्षों में उनकी उम्र 12 साल बढ़ गई और 2020 के चुनावी हलफनामे के मुताबिक अब वे 64 वर्ष के हो गए हैं।

हालांकि तारकिशोर प्रसाद का कहना है कि मीडिया बेमतलब उनकी उम्र को तूल दे रहा है। प्रसाद के मुताबिक उनका जन्म पांच जनवरी, 1956 को हुआ है। वर्ष 2015 के चुनावी शपथ पत्र में 59 वर्ष ही लिखा है, जिसे 52 पढ़ा जा रहा है। इस बार 2020 के शपथ पत्र में 64 वर्ष लिखा है। शपथ पत्र के साथ मैट्रिक का शैक्षणिक प्रमाण पत्र दिया जाता है, जिसमें उम्र सहित सभी जानकारियां रहती हैं। संभवत: 2010 के शपथ पत्र में उम्र लिखने को लेकर मानवीय भूल हुई है। 

कौन हैं तारकिशोर प्रसाद

तारकिशोर प्रसाद ने 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव के बाद बनी सरकार में राज्य के उप-मुख्यमंत्री बने हैं। उनसे पहले सुशील कुमार मोदी लंबे अरसे तक इस पद पर रहे। तारकिशोर वैश्य समुदाय से जुड़े हैं। वे लगातार चार बार - 2005, 2010, 2015 और 2020 में कटिहार सीट से विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से की थी। बिहार बीजेपी में भी वे कई अहम पदों पर रह चुके हैं।