नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने स्पाइसजेट के 90 पायलटों को बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने से रोका 

डीजीसीए ने उठाया अभूतपूर्व कदम, एयरलाइन्स ने कहा कि 90 पायलटों पर रोक के बावजूद उड़ानों का संचालन प्रभावित नहीं होगा, एयरलाइन्स के बेड़े में हैं 13 मैक्स विमान 

Publish: Apr 13, 2022, 09:44 AM IST

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने स्पाइसजेट के 90 पायलटों को बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने से रोका 

नई दिल्ली। 
सिम्युलेटर अभ्यास के दौरान विसंगति का पता चलने पर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने स्पाइसजेट एयरलाइन्स के 90 पायलटों को बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने से रोक दिया है। महानिदेशालय ने कहा है कि जब तक ये पायलट उचित प्रशिक्षण प्राप्त नहीं कर लेते तब तक इनके बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने पर रोक रहेगी। एयरलाइन्स के पास वर्तमान में 13 बोइंग 737 मैक्स विमान हैं, जिनमे से 11 विमानों के जरिये प्रतिदिन 60 उड़ानों का संचालन एयरलाइन्स कर रही है। एयरलाइन्स के पास वर्तमान में बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने में प्रशिक्षित 560 पायलट हैं। एयरलाइन्स ने कहा है कि 90 पायलटों पर रोक के बावजूद उड़ानें प्रभावित नहीं होंगी। 

दरअसल खराब मौसम, आपातकाल की स्थिति या विमान में कोई तकनीकी खामी आने पर उससे किस तरह निपटा जाए सिम्युलेटर में इसके जरिये ट्रेनिंग दी जाती है। डीजीसीए की रोक के बाद अब इन पायलटों को और अधिक प्रशिक्षण से गुजरना होगा। यही नहीं अब एयरलाइन के प्रशिक्षु पायलट भी रेगुलेटर्स की जाँच के दायरे में होंगे। एयरलाइन्स के प्रवक्ता ने डीजीसीए की इस कार्रवाई की पुष्टि करते हुए कहा है कि अब ये पायलट डीजीसीए को संतुष्ट करने के लिए आगे का प्रशिक्षण पूरा करेंगे। 
इस मामले में सूत्रों का कहना है कि जब 90 पायलट प्रशिक्षण के दौर से गुजर रहे थे उस दौरान सिम्युलेटर में मैनोवरिंग फीचर ऑग्मेंटेशन सिस्टम ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा था इसलिए तकनीकी खामी पाई गई।