चुनाव आयोग ने ठाकरे और शिंदे गुट को दिया नया नाम, अब मशाल होगा उद्धव की पार्टी का चुनाव चिन्ह

चुनाव आयोग ने शिवसेना की उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे गुट को नया नाम और चुनाव चिह्न आवंटित कर दिया है। आयोग ने शिंदे गुट का नाम बालासाहिबची शिवसेना, जबकि उद्धव ठाकरे गुट को शिवसेना उद्धव बाला साहेब ठाकरे नाम आवंटित किया है।

Updated: Oct 10, 2022, 11:54 PM IST

चुनाव आयोग ने ठाकरे और शिंदे गुट को दिया नया नाम, अब मशाल होगा उद्धव की पार्टी का चुनाव चिन्ह

मुंबई। चुनाव आयोग ने शिवसेना का नाम और चुनाव चिह्न तीर-कमान फ्रीज करने के बाद उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे गुट को नए नाम जारी कर दिए हैं। उद्धव गुट को "शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे" नाम दिया गया है। वहीं मशाल निशान दिया गया है। शिंदे गुट को "बालासाहेबांची शिवसेना" नाम मिला है। जबकि अभी सिंबल अलॉट नहीं हुआ है। शिंदे गुट ने गदा निशाना मांगा था। चुनाव आयोग ने इसे धार्मिक प्रतीक मानते हुए शिंदे को नया निशान चुनने को कहा है।

निर्वाचन आयोग द्वारा ‘शिवसेना – उद्धव बालासाहेब ठाकरे’ नाम आवंटित किए जाने के बाद उद्धव ठाकरे गुट के नेता भास्कर जाधव ने कहा कि हम बहुत खुश हैं, इसे बड़ी जीत मानते हैं। उधर शिवसेना के राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने सोमवार को कहा कि उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाले राजनीतिक दल के लिए नया चुनाव चिह्न आने वाले दिनों में बड़ी क्रांति ला सकता है।

यह भी पढ़ें: संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए उन्होंने हमेशा कांग्रेस का साथ दिया: मुलायम सिंह के निधन पर बोलीं सोनिया गांधी

बता दें कि शिंदे और उद्धव ठाकरे गुट ने चुनाव आयोग को तीन नाम और चिह्न दिए थे। चुनाव आयोग ने अंधेरी ईस्ट उपचुनाव में शिवसेना के नाम और चुनाव चिन्ह के इस्तेमाल पर अंतरिम रोक लगा दी थी। शिवसेना की तरफ से जानकारी दी गई थी कि उप चुनाव के लिए उन्होंने चुनाव आयोग को तीन नाम और तीन निशान के विकल्प दिए थे।निशान में त्रिशूल, उगता सूरज और मशाल शामिल थे। वहीं पार्टी के नाम शिवसेना बाला साहेब ठाकरे, शिवसेना बालासाहेब प्रबोधनकर ठाकरे, शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे दिए गए थे।

एकनाथ शिंदे ने भी त्रिशूल, उगता सूरज और गदा चुनाव चिह्न मांगे थे। हालांकि आयोग ने शिंदे गुट को इन तीनों चुनाव चिह्न को देने से इनकार कर दिया। दरअसल, उगता सूरज डीएमके का चुनाव चिन्ह है, वहीं त्रिशूल और गदा को धार्मिक चिन्ह बताते हुए आयोग ने देने से इनकार कर दिया। बता दें कि महाराष्ट्र के अंधेरी ईस्ट सीट से शिवसेना विधायक रमेश लटके के निधन के बाद से खाली है। इसलिए इस सीट पर 3 नवंबर को उपचुनाव होने वाला है।