हरियाणा के सीएम खट्टर को झेलना पड़ा किसानों का विरोध, प्रचार करने की जगह उल्टे पांव वापस लौटे

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर आज अम्बाला में आगामी नगर निकाय चुनावों के प्रचार के सिलसिले में पहुंचे थे

Updated: Dec 23, 2020, 12:16 AM IST

हरियाणा के सीएम खट्टर को झेलना पड़ा किसानों का विरोध, प्रचार करने की जगह उल्टे पांव वापस लौटे
Photo Courtesy : PTI

अम्बाला। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को आज किसानों का ज़बरदस्त विरोध सहना पड़ा। मनोहर लाल खट्टर आज अम्बाला में आगामी नगर निकाय चुनावों के प्रचार के सिलसिले में पहुंचे थे। लेकिन जैसे ही खट्टर का काफिला अग्रसेन पहुंचा, वहां शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे किसानों का गुस्सा मनोहर लाल खट्टर पर फूट पड़ा। 

जैसे ही खट्टर का काफिला किसानों के प्रदर्शन स्थल पर पहुंचा, प्रदर्शन कर रहे किसानों ने जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। किसान खट्टर के विरोध में नारेबाजी करते हुए काले झंडे दिखा रहे थे। लेकिन मुख्यमंत्री की सुरक्षा में मौजूद पुलिसकर्मी जब खट्टर के काफिले को दूसरे रास्ते से निकालने की कोशिश करने लगे तब किसानों का आक्रोश और बढ़ गया।  

यह भी पढ़ें : किसान आंदोलन में शामिल हैं खालिस्तानी तत्व, हरियाणा के सीएम खट्टर का संगीन आरोप

मुख्यमंत्री को लेना पड़ा यूटर्न 

किसानों की नाराज़गी बढ़ती देखकर मुख्यमंत्री को यूटर्न लेना पड़ा। लेकिन गुस्साए किसान उसके बाद भी खट्टर का विरोध करते रहे। मुख्यमंत्री के काफिले के आगे से किसानों को हटाने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस बीच किसानों और पुलिसकर्मियों में जमकर धक्का मुक्की भी हुई।  

मनोहर लाल खट्टर किसान आंदोलन में दोनों तरफ से घिरे हुए हैं। दिल्ली जा रहे किसानों के रास्ते में तरह-तरह से रुकावटें डालने, किसानों के खिलाफ मुकदमे करने, किसान आंदोलन में खालिस्तानी तत्वों के शामिल होने का बयान देने जैसे कई काम खट्टर ने ऐसे किए हैं, जिसके चलते किसान उनसे बेहद नाराज़ हैं। दूसरी तरफ बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व भी उनसे काफी ख़फा बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि बीजेपी नेतृत्व खट्टर से इसलिए नाराज़ है कि उन्होंने किसान आंदोलन को अपने राज्य में पूरी तरह दबाया नहीं।