G-23 की बैठक के बाद सोनिया गांधी से मिलेंगे गुलाम नबी आजाद, आगे की रणनीति पर होगी चर्चा

दिल्ली स्थित गुलाम नबी आजाद के आवास पर कल रात हुई थी G-23 की बैठक, कांग्रेस की वर्तमान स्थिति और आगे की रणनीति पर हुई चर्चा, सोनिया गांधी को प्रस्ताव देंगे गुलाम नबी आजाद

Updated: Mar 17, 2022, 12:38 PM IST

G-23 की बैठक के बाद सोनिया गांधी से मिलेंगे गुलाम नबी आजाद, आगे की रणनीति पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। विधानसभा चुनावों में हार के बाद कांग्रेस के असंतुष्ट ‘जी 23’ समूह के नेताओं ने बुधवार को बैठक कर अपनी आगे की रणनीति पर चर्चा की। बताया जा रहा है कि इस बैठक में G23 के नेताओं ने कहा कि हम पार्टी तोड़ना नहीं चाहते हैं, लेकिन गांधी परिवार के वफ़ादारों को बर्दाश्त नहीं करेंगे। इस बीच मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुलाम नबी आजाद से बात की है। मीडिया सूत्रों के मुताबिक आज सोनिया गांधी और गुलाम नबी आजाद की एक बैठक होने वाली है।

मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी दावा किया जा रहा है कि सोनिया और आजाद की इस बैठक में राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और G-23 के कुछ अन्य सदस्य भी शामिल हो सकते हैं। इस बैठक के दौरान पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को गुलाम नबी आजाद G-23 नेताओं की ओर से आखिरी प्रस्ताव पेश करेंगे। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के बाद ही बाद ही जी-23 के बागी नेताओं के भविष्य पर फैसला होगा।

यह भी पढ़ें: जो कटे रहे जड़ों‌ से, वे वटवृक्षों को उगना सिखा रहे हैं, कपिल सिब्बल पर बरसे सीएम भूपेश बघेल

बता दें कि बुधवार को गुलाम नबी आजाद के घर पर  जी-23 नेताओं की लंबी बैठक चली थी। इस दौरान विधानसभा चुनावों में पार्टी को मिली हार के साथ 2024 के लोकसभा चुनाव की रणनीति पर चर्चा की गई। बैठक के बाद जारी किए गए साझा बयान में कहा गया की 2024 लोकसभा चुनाव की खातिर भरोसेमंद विकल्प तैयार करने वाले समान विचारधारा वाली पार्टियों के साथ तालमेल बैठाना बेहद जरूरी है।

G-23 नेताओं के अनुसार, हमारा मानना है कि कांग्रेस के लिए आगे बढ़ने का यही तरीका है कि सामूहिक और समावेशी नेतृत्व की व्यवस्था अपनाई जाए और हर स्तर पर निर्णय हो। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा का विरोध करने के लिए जरूरी है कि कांग्रेस पार्टी को मजबूत किया जाए। हम कांग्रेस हाईकमान से मांग करते हैं कि पार्टी समान विचारधारा वाली सभी ताकतों के साथ बातचीत की शुरुआत करे, ताकि 2024 के लिए विश्वसनीय विकल्प पेश करने के लिए एक मंच बन सके।

रिपोर्ट्स के मुताबिक आजाद के घर हुई इस बैठक में कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी, शशि थरूर, शंकर सिंह बाघेला, अखिलेश प्रसाद सिंह, संदीप दीक्षित, विवेक तन्खा, पृथ्वीराज चव्हाण, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, राज बब्बर, मणिशंकर अय्यर, पी जे कुरियन, राजेंद्र कौर भट्टल, कुलदीप शर्मा, परनीत कौर और एम ए खान शामिल हुए। हालांकि, इस बैठक में मणिशंकर अय्यर का शामिल होना दिलचस्प है, क्योंकि वह गांधी परिवार के खास माने जाते हैं।