लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडेय होंगे अगले आर्मी चीफ, सेना की कमान संभालने वाले पहले इंजीनियर होंगे

नागपुर के रहने वाले हैं जनरल मनोज पांडेय, चीन बॉर्डर पर काम करने का है लंबा अनुभव, अगले महीने की 1 तारीख से संभालेंगे सेना की कमान, 30 अप्रैल को खत्म हो रहा है एमएम नरवने का कार्यकाल

Updated: Apr 19, 2022, 09:44 AM IST

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडेय होंगे अगले आर्मी चीफ, सेना की कमान संभालने वाले पहले इंजीनियर होंगे

नई दिल्ली। लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे को नया सेना प्रमुख नियुक्‍त किया गया है। वे मौजूदा सेना प्रमुख, जनरल मनोज मुकुंद नरवणे का स्‍थान लेंगे जो इसी माह 30 अप्रैल को रिटायर हो रहे हैं। नागपुर के रहने वाले पांडेय पहले इंजीनियरिंग बैकग्राउंड के अधिकारी हैं जिन्हे भारतीय सेना का कमान सौंपा गया।

भारतीय सेना में अबतक अब तक इन्फैंट्री, आर्मर्ड और आर्टिलरी अधिकारी ही आर्मी चीफ बनते रहे हैं। लेफ्टिनेंट जनरल पांडे 1 फरवरी 2022 को उप सेना प्रमुख बने थे। वे चीन से सटे सिक्किम और लद्दाख बॉर्डर पर कई ऑपरेशन का नेतृत्व कर चुके हैं। ADGPI ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर नए आर्मी चीफ का स्वागत किया है। आर्मी की ओर से बताया गया है कि 1 मई 2022 को मनोज पांडे नए सेना प्रमुख का कार्यभार संभालेंगे। वर्तमान सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे का कार्यकाल इसी महीने 30 तारीख को खत्म हो रहा है।

यह भी पढ़ें: जहांगीरपुरी हिंसा: बिना इजाजत निकाली गई थी शोभायात्रा, बजरंग दल और VHP कार्यकर्ताओं पर FIR

लेफ्टिनेंट जनरल पांडे को दिसंबर 1982 में बॉम्बे सैपर्स में कमीशन मिला था। अपने विशिष्ट करियर में, उन्होंने सभी प्रकार के इलाकों में पारंपरिक और साथ ही आतंकवाद विरोधी अभियानों में कई प्रतिष्ठित कमांड और स्टाफ संबंधी दायित्वों का निर्वहन किया है। वह संयुक्त राष्ट्र के कई मिशनों में भी योगदान दे चुके हैं। वह जून 2020 से मई 2021 तक अंडमान एवं निकोबार कमान के कमांडर इन चीफ भी रहे।

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे ने जम्‍मू-कश्‍मीर में नियंत्रण रेखा के साथ संवेदनशील पल्‍लववाला सेक्‍टर में ऑपरेशन पराक्रम के दौरान 117 इंजीनियर रेजीमेंट की कमान संभाली थी। अपने करियर में उन्होंने परम विशिष्ट सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल, विशिष्ट सेवा मेडल जैसे बड़े सैन्य सम्मान भी हासिल किए हैं। लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे चीन से सटे ईस्टर्न कमांड में कमांडर और ब्रिगेडियर स्टाफ के पद पर काम कर चुके हैं। वे लद्दाख इलाके के माउंटेन डि‌विजन में इंजीनियर ब्रिगेड के पद पर तैनात रह चुके हैं।