Nashik Oxygen Leak: अस्पताल के ऑक्सीजन टैंक लीक होने से 22 की मौत, 12 की हालत गंभीर

टैंक में हुए रिसाव के चलते पूरे इलाके में ऑक्सीजन फैल गई थी, इस दौरान अस्पताल में 150 लोग भर्ती थे, इस दौरान करीब आधे घंटे तक अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई को रोका गया

Updated: Apr 21, 2021, 07:06 PM IST

Nashik Oxygen Leak: अस्पताल के ऑक्सीजन टैंक लीक होने से 22 की मौत, 12 की हालत गंभीर
Photo Courtesy: NDTV

नासिक। महाराष्ट्र के नासिक स्थित डॉक्टर जाकिर हुसैन अस्पताल में ऑक्सीजन लीक होने से मृतकों के आंकड़ा बढ़कर 22 तक जा पहुंचा है। नासिक नगर निगम आयुक्त ने इस हादसे में 22 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि इस दौरान अस्पताल में कुल 150 मरीज भर्ती थे जिनमें 23 को वेंटिलेटर पर रखा गया था।

नासिक की इस घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'ऑक्सीजन टैंक के लीक होने की वजह से नासिक के अस्पताल में हुआ हादसा दिल दहला देने वाला है। इस कारण लोगों की हुई मौत से बेहद दुखी हूं। दुख की इस घड़ी में पीड़ित परिजनों को मेरी संवेदनाएं।' 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी नासिक हादसे को लेकर दुख जताया है। राहुल ने ट्वीट किया, 'नासिक के ज़ाकिर हुसैन हॉस्पीटल में मरीज़ों की मौत की ख़बर अत्यंत दुखद है। मैं मृतकों के परिजनों को अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। मैं राज्य सरकार और कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि पीड़ित परिवार की हर संभव सहायता की जाए।' 

रिपोर्ट्स के मुताबिक बुधवार को यह हादसा उस वक़्त हुआ जब ऑक्सीजन टैंकरों के ज़रिए अस्पताल में ऑक्सीजन भरा जा रहा था। इस दौरान टैंक से ही ऑक्सीजन का रिसाव होने लगा। आसपास मौजूद लोग जबतक कुछ समझ पाते तबतक गैस पूरे एरिया में फैल गई जिसके कारण घबराहट की स्थिति निर्मित हो गई।

आनन-फानन में इस दौरान अस्पताल के ऑक्सीजन सप्लाई को करीब आधे घंटे तक के लिए रोक दिया। ऑक्सीजन सप्लाई रोके जाने और पूरे एरिया में गैस फैलने से हुई घबराहट के कारण करीब 22 इलाजरत मरीजों की थोड़े देर म ही मौत हो गई। वहीं 12 अन्य की स्थिति गंभीर है। आशंका जताई जा रही है कि कुछ समय में मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी होगी। 

यह भी पढ़ें: दमोह में मची ऑक्सीजन की लूट, अस्पताल में ट्रक पहुंचते ही सिलिंडरों पर टूट पड़े परिजन

अस्पताल में गैस लीक होने की जानकारी मिलने के बाद जिला प्रशासन ने तत्काल पांच फायर ट्रेक को लीकेज रोकने के लिए मौके पर भेजा। नासिक के चीफ मेडिकल ऑफिसर (सीएमओ) ने बताया कि हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी। महाराष्ट्र सरकार ने इस घटना की उच्‍च स्‍तरीय जांच का आदेश भी दिया है। नासिक नगर निगम के आयुक्त कैलाश जाधव ने बताया की तकनीकी इंजीनियर की मदद से लीकेज को बंद किया जा चुका है। हालांकि, अब अस्पताल में महज 25 फीसदी ऑक्सीजन ही बचा है।