व्हेल मछली की 6 किलो उल्टी जब्त, मुंबई क्राइम ब्रांच ने दो तस्करों को किया गिरफ्तार

करोड़ों में बिकती है व्हेल मछली की वोमिटिंग, मुंबई में दो तस्कर गिरफ्तार, गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी में जुटी क्राइम ब्रांच

Updated: Jul 04, 2021, 03:14 PM IST

व्हेल मछली की 6 किलो उल्टी जब्त, मुंबई क्राइम ब्रांच ने दो तस्करों को किया गिरफ्तार
Photo Courtesy: ABC

मुंबई। मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो व्हेल मछली की उल्टी यानी एम्बरग्रीस की तस्करी में शामिल थे। क्राइम ब्रांच ने छापेमार कार्रवाई कर 6 किलोग्राम उल्टी भी जब्त किया है। करोडों रुपए में बिकने वाली व्हेल मछली की उल्टी की जब्ती के साथ दो तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया है। क्राइम ब्रांच अब इस बात की छानबीन कर रही है कि इस गिरोह में और कितने लोग शामिल थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक मुंबई क्राइम ब्रांच की यूनिट 10 को गुप्त सूचना मिली थी पवई इलाके में एम्बरग्रीस की तस्करी करने वाले दो लोग कार से आने वाले हैं। खूफिया इनपुट के आधार मुंबई पुलिस ने इलाके में जाल बिछाकर सभी संदिग्ध वाहनों की छानबीन की। इस दौरान एक कार से करीब 6 किलोग्राम एम्बरग्रीस बरामद हुई।

यह भी पढ़ें: क्रूर समाज का खौफनाक चेहरा! MP में युवतियों के साथ बर्बरता, लाठी-डंडों और लात-घूंसों से अधमरा किया

क्राइम ब्रांच ने व्हेल के इस बेशकीमती उल्टी को जब्त कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस उल्टी की कीमत करीब 6 करोड़ रुपए है। पुलिस अब यह पता करने में जुटी है कि इसका मुख्य सप्लायर कौन है, इसे कहां से लाया गया और इसे खरीदने कौन आने वाला है। साथ ही एम्बरग्रीस तस्करी के इस गिरोह में और कौन-कौन लोग शामिल हैं।

क्यों खास है यह वोमिट

उल्टी का नाम सुनते ही दुर्गंध और बदबू आने लगती है। हालांकि, व्हेल मछली की उल्टी ऐसी नहीं होती। कहने को तो कहने को तो यह उल्टी है लेकिन इससे बहुत ही अच्छी खुशबू आती है। इसका इस्तेमाल लाखों रुपये में बिकने वाली परफ्यूम बनाने में किया जाता है। इसका इस्तेमाल महंगी शराब, सिगरेट और दवाइयां बनाने में भी किया जाता है। इस दुर्लभ वोमिट की मांग ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देशों में बहुत ही ज्याद है। 

दरअसल, व्हेल मछली की उल्टी के माध्यम से एक अजीबोगरीब पदार्थ बाहर निकलता है। यह इतना हल्का होता है कि समुद्र के पानी की सतह पर तैरने लगता है। भारतीय वाइल्ड लाइफ कानून के तहत इसे संरक्षित वस्तुओं की सूची में डाला गया है। यदि कोई व्यक्ति इसका गैरकानूनी तरीके से व्यापार करता हुआ पाया जाता है तो उसके खिलाफ कानूनी करवाई की जाती है। अरब देशों के लोग इत्र बनाने में इसका सदियों से इस्तेमाल करते आ रहे हैं।