नेशनल हेराल्ड केस: राहुल गांधी से ED ने की करीब 10 घंटे पूछताछ, सुबह फिर बुलाया

सुबह 11 बजकर 10 मिनट पर ईडी दफ्तर पहुंचे राहुल गांधी देर रात बाहर निकले, राहुल के समर्थन में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया सत्याग्रह मार्च

Updated: Jun 14, 2022, 07:28 AM IST

नेशनल हेराल्ड केस: राहुल गांधी से ED ने की करीब 10 घंटे पूछताछ, सुबह फिर बुलाया

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने नेशनल हेराल्ड केस में कांग्रेस नेता राहुल गांधी से सोमवार को दस घंटे पूछताछ की। ईडी ने उन्हें मंगलवार सुबह फिर से पेश होने के लिए कहा है। कांग्रेस का आरोप है कि ये पूछताछ बीजेपी की बदले की राजनीति का हिस्सा है और केंद्र की मोदी सरकार विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है।

राहुल गांधी सोमवार सुबह 11 बजकर 10 मिनट पर ईडी दफ्तर पहुंचे थे। यहां पहले दौर में राहुल गांधी से करीब साढ़े तीन घंटे तक पूछताछ हुई। इसके बाद वे अपनी बीमार मां सोनिया गांधी से मिलने गंगा राम हॉस्पिटल पहुंचे। उसके बाद वो प्रवर्तन निदेशालय के कार्यालय दूसरे दौर की पूछताछ के लिए पहुंचे, जो करीब सात घंटे तक चली।

यह भी पढ़ें: देश में पूर्व गृहमंत्री चिदंबरम की पसली में फ्रैक्चर, सुरजेवाला बोले- बर्बरता की हद पार गई मोदी सरकार

पहले दौर की पूछताछ के बाद राहुल गांधी को दोपहर करीब दो बजकर 10 मिनट पर भोजन के लिए ईडी मुख्यालय से बाहर जाने की इजाजत दी गई थी। भोजनावकाश और सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद वह दोपहर करीब तीन बजकर 30 मिनट पर फिर ईडी के समक्ष पेश हुए। राहुल गांधी देर रात ईडी दफ्तर से बाहर निकले और विश्राम करने घर गए। सुबह करीब 11 बजे वे फिर ईडी के समक्ष पेश होंगे।

बताया जा रहा है कि राहुल गांधी ने धनशोधन रोकथाम कानून की धारा 50 के तहत अपना बयान लिखित रूप से दिया। उधर ईडी की कार्रवाई को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उबाल है। सोमवार सुबह जब राहुल गांधी ईडी दफ्तर के लिए निकले तो कांग्रेस के कई दिग्गज नेता उनके साथ थे। लेकिन दिल्ली पुलिस ने न सिर्फ उन्हें रोका बल्कि उनके साथ अभद्रता और मारपीट की। इस दौरान देश के पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम की पसली में फ्रैक्चर हो गया। साथ ही कई अन्य दिग्गज नेता घायल हो गए। 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने स्पष्ट रूप से कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी बदले की राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने पीएम मोदी को चेतावनी देते हुए कहा है कि हमने अंग्रेजों से भी लड़ाई लड़ी और अब आपसे भी लड़ेंगे। यह लड़ाई तबतक जारी रहेगी जबतक प्रजातंत्र की जीत न हो।