जीडीपी बढ़ने का मतलब है, गैस, डीजल और पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि, राहुल का मोदी सरकार पर वार

राहुल गांधी ने महंगाई के मुद्दे पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा, मोदी सरकार ने मध्यम वर्ग का डिमोनेटाइज़ेशन किया है, जबकि उद्योगपतियों का मोनेटाज़ेशन किया है

Publish: Sep 01, 2021, 06:26 PM IST

जीडीपी बढ़ने का मतलब है, गैस, डीजल और पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि, राहुल का मोदी सरकार पर वार

नई दिल्ली। लगातार बढ़ती महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। आज महंगाई की मार झेल रहे आम आदमी की आवाज़ बुलंद करने के लिए राहुल गांधी ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। राहुल गांधी ने इस दौरान एक के बाद एक मोदी सरकार पर तीखे वार किए। कांग्रेस नेता ने बीजेपी शासित केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि जीडीपी में बढ़ोतरी के वित्त मंत्री के दावे का मतलब है कि गैस, डीजल और पेट्रोल के दाम बढ़ रहे हैं।  

राहुल गांधी ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने मध्यम वर्ग के लोगों के लिए डिमोनेटाइज़ेशन किया है तो वहीं उद्योगपतियों के लिए मोनेटाइज़ेशन किया है। राहुल गांधी ने मोदी सकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम कहते हैं डिमोनेटाइजेशन कर रहा हूँ, वित्तमंत्री कह रही हैं मोनेटाइजेशन कर रही हैं। डिमोनेटाइजेशन किसान-मजदूर, छोटे दुकानदार, MSME, वेतनभोगी और ईमानदार उद्योगपतियों का हो रहा है। जबकि 4-5 उद्योगपतियों का मोनेटाइजेशन किया जा रहा है।  

राहुल गांधी ने मोदी सरकार के कार्यकाल में बेतहाशा बढ़ी महंगाई का लेखा जोखा भी पेश किया। राहुल ने कहा कि 2014 से लेकर अब तक रसोई गैस की कीमतों में 116 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। वहीं पेट्रोल की कीमतों में 42 जबकि डीजल की कीमतों में 55 फीसदी बढ़ोतरी हुई है। वायनाड सांसद ने कहा कि 2014 में रसोई गैस की कीमत 410 रुपए थी और आज 885 रुपए है। पेट्रोल की कीमत 71.5 फीसदी थी जबकि आज 101 है। डीजल की कीमत 57 रुपए प्रति लीटर थी, जबकि आज यह आंकड़ा 88 रुपए पर पहुंच गया है। राहुल गांधी ने कहा ऐसे हालात तब हैं जब हमारे समय में (कांग्रेस कार्यकाल) अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमत 32 फीसदी ज़्यादा थी और गैस 26 फीसदी ज़्यादा थी। 

यह भी पढ़ें ः महंगाई से हुई महीने के पहले दिन की शुरुआत, गैस सिलिंडर हुआ महंगा, आम जनता का घरेलू बजट बिगड़ा

राहुल गांधी ने सीधे प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सच्चाई से डर गए हैं। घबरा गए हैं, क्योंकि वे वादे पूरे नहीं कर पा रहे हैं। पीएम को घबराया हुआ देखकर चीन अपनी योजना बना रहा है। अच्छा लगे या बुरा, मैं सच्चाई बता रहा हूं।