Bihar Elections 2020: जेडीयू के खिलाफ सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगे चिराग पासवान

Chirag Paswan: NDA में दरार, सूबे के 143 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी में LJP, संसदीय बोर्ड जल्द सौंपेगी उम्मीदवारों की सूची

Updated: Sep 07, 2020 07:11 PM IST

Bihar Elections 2020: जेडीयू के खिलाफ सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगे चिराग पासवान
Photo Courtsey: The Economic Times

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव का समय जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे प्रदेश का राजनीतिक मौसम बदलता जा रहा है। इस बार राजनीतिक मौसम में बदलाव लाने वाले और कोई नहीं बल्कि राजनीति के मौसम वैज्ञानिक माने जाने वाले रामविलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान हैं। सीएम नीतीश से चल रही नाराजगी के बीच चिराग पासवान जेडीयू के खिलाफ सभी विधानसभा क्षेत्रों में अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी में हैं। 

दरअसल सोमवार, 07 सितंबर को आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के संबंध में संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाई गई थी। राजधानी दिल्ली स्थित चिराग पासवान के घर पर आयोजित इस बैठक में यह तय किया गया कि चुनाव के मद्देनजर गठबंधन से जुड़े सभी फैसलों के लिए एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान स्वतंत्र हैं और अंतिम फैसला उनका ही होगा। बैठक के दौरान फैसला लिया गया कि पार्टी को सूबे के 143 विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों की सूची बनाकर जल्द ही केंद्रीय संसदीय बोर्ड को देनी है। इस बात की जानकारी एलजेपी ने बयान जारी कर दिया है।

प्रदेश के 143 सीटों के लिए एलजेपी द्वारा उम्मीदवारों की सूची बनाने की खबर के बाद प्रदेश का सियासी पारा फिर से हाई हो गया है। बता दें कि प्रदेश में 243 विधानसभा सीट है जिसमें से माना जा रहा था कि एनडीए गठबंधन के घटक दल लोजपा के खाते में 43 सीटें आएगी वहीं बीजेपी और जेडीयू 100-100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं अब एलजेपी द्वारा 143 की सूची बनाने की खबर के बाद यह साफ है कि चिराग जेडीयू के खिलाफ सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार को उतारेंगे।

क्या है विवाद का मुख्य कारण?

दरअसल, काफी समय से चिराग पासवान बिहार के सीएम नीतीश कुमार और प्रदेश सरकार के खिलाफ बोल रहे हैं। गठबंधन के घटक दल होने के बाद भी एलजेपी और जेडीयू में हमेशा विवाद की स्थिति बनी रही है। लेकिन यह विवाद तब और बढ़ गया जब जेडीयू ने हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के साथ गठबंधन कर लिया और जीतन मांझी एक बार फिर नीतीश के साथ हो गए। दोनों पार्टियां खुद को सूबे के दलित और महादलित समुदाय की हितैषी मानती हैं। ऐसे में एक तरह के दो लोगों का एकसाथ रहना दूभर होता दिख रहा है।

Click: Bihar Election 2020 चिराग पासवान की इश्तेहार पॉलिटिक्स

बीते दिनों जब यह खबर भी आई थी कि एलजेपी जेडीयू के कुछ उम्मीदवारों के खिलाफ़ अपने उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारेगी तब 'हम' के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने चिराग पासवान पर निशाना साधते हुए कहा था कि अगर वह ऐसी हिमाकत करेंगे तो हमारी पार्टी लोजपा के उम्मीदवारों के खिलाफ मैदान में अपने उम्मीदवारों को उतारेगी। वहीं मामले पर लोजपा ने हम नेताओं को अपनी हैसियत में रहने की बात कही है। 

गौरतलब है कि एलजेपी कहती है कि उसका गठबंधन बीजेपी के साथ है। 'हम' पार्टी भी कहती है कि उसका गठबंधन जेडीयू के साथ है। वहीं जेडीयू और बीजेपी का आपस में गठबंधन है। ऐसे में चारों पार्टियां एकदूसरे के साथ होकर भी एकदूसरे की विरोधी हो गई हैं। अब देखना यह होगा कि चुनाव के समय एनडीए गठबंधन के घटक दलों की अंदरूनी कलह किस हद तक बढ़ती है और इसका प्रभाव टिकट बंटवारे से लेकर चुनाव नतीजे पर क्या पड़ता है।