शिवराज ने की सभी मुख्यमंत्रियों को मिलकर पीएम को पत्र लिखने की मांग, मोदी सरकार की टीकाकरण नीति का किया बचाव

शिवराज ने केंद्र के टीकाकरण अभियान को बताया परफेक्ट पॉलिसी, कहा, राज्यों के दबाव पर केंद्र को बदलनी पड़ी थी अपनी नीति

Updated: Jun 01, 2021, 11:15 AM IST

शिवराज ने की सभी मुख्यमंत्रियों को मिलकर पीएम को पत्र लिखने की मांग, मोदी सरकार की टीकाकरण नीति का किया बचाव
Photo courtesy: amarujala

भोपाल। टीकों की उपलब्धता पर आलोचनाओं का शिकार हो रही केंद्र सरकार का मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बचाव किया है। शिवराज सिंह चौहान ने केंद्र की टीकाकरण नीति को परफेक्ट पॉलिसी करार देते हुए कहा है कि केंद्र सरकार को राज्यों के दबाव के कारण ही अपनी नीति बदलनी पड़ी। शिवराज ने सभी मुख्यमंत्रियों से पीएम मोदी को पत्र लिखने की मांग की है ताकि राष्ट्रीय स्तर पर टीकाकरण को लेकर एक नीति बनाई जा सके। शिवराज ने कहा कि टीकाकरण को लेकर एक राष्ट्रीय नीति बनाए जाने की बात खुद प्रधानमंत्री मोदी मान जाएंगे। 

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने यह बात अंग्रेज़ी के एक प्रमुख अख़बार को दिए एक इंटरव्यू में कही। शिवराज ने कहा कि राज्यों के मतों में भिन्नता और अलग अलग डिमांड होने के कारण टीकाकरण को लेकर एक राष्ट्रीय नीति बनाना केंद्र सरकार के लिए काफी कठिन था, लिहाज़ा केंद्र ने टीकाकरण की ज़िम्मेदारी राज्यों सरकारों को सौंप दी। शिवराज ने कहा कि मैं तो सभी मुख्यमंत्रियों से एक साथ आकर पीएम से अपील करने की मांग करता हूं। इन कठिनाइयों पर हम सबको मिलकर पार पाना होगा। 

हालांकि शिवराज ने केंद्र सरकार की टीकाकरण नीति का बचाव किया। शिवराज ने कहा कि वैक्सीन की सीमित संख्या में उपलब्धता को देखते हुए केंद्र सरकार ने वरीयता के आधार पर टीकाकरण का अभियान शुरू किया था। लेकिन कई राज्यों और कई राजनीतिक दलों की तरफ 18 वर्ष की अधिक उम्र के लोगों का भी टीकाकरण किए जाने की मांग उठने लगी। इसके बाद ही केंद्र ने टीकाकरण की ज़िम्मेदारी राज्यों को सौंप दी। अगर हर दूसरा राज्य अलग मांग करेगा तो केंद्र सरकार क्या करेगी? 

शिवराज ने कोरोना काल में विपक्षी दलों की आलोचना पर भी सवाल खड़ा किया। शिवराज ने कहा कि महामारी के इस दौर में विपक्षी दल बीजेपी के नेतृत्व के खिलाफ नकारात्मक माहौल बनाने की कोशिश कर रहा है। शिवराज ने कहा कि बढ़ती पॉज़िटिव रेट और स्वास्थ्य ढांचे के अभाव ने विपक्ष को तोहमत लगाने का एक मौका दे दिया। लेकिन साथ ही कोरोना की दूसरी लहर के दौरान लोगों के बीच बीजेपी को लेकर पनपे नकारात्मक माहौल से पूरी तरह से इनकार कर दिया। शिवराज ने कहा कि कोरोना के इस संकट दौर में पीएम ने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है। 

कोरोना संकट काल में ज़मीन पर बीजेपी के कार्यकर्ताओं की गैर हाजिरी को लेकर जब शिवराज से पूछा गया था मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सेवा ही संगठन अभियान के तहत बीजेपी ने सामाजिक कार्यों के बहुत काम किए हैं। इतना ही नहीं जब अंग्रेज़ी अख़बार ने सीएम से राजधानी भोपाल में कोरोना से हुई मृत्यु के आंकड़े छिपाने से जुड़ा सवाल पूछा तब मुख्यमंत्री ने यह कहते हुए बचाव किया कि इस बात की संभावना है कि कोरोना के कुछ मामलों को डिटेक्ट न किया जा सका हो, क्योंकि कुछ लोग कोरोना की जांच कराए बगैर घर पर ही रहे।