रांची में हिंसा के दौरान घायल दो युवकों की मौत, गोली लगने से हुए थे घायल, UP में 200 से ज्यादा गिरफ्तार

देशभर में बीते दिन जुमे की नमाज के बाद जुटी भारी भीड़ ने पैगंबर के बारे में बीजेपी नेताओं की विवादित टिप्पणी के विरोध में जमकर नारेबाजी की, रांची में इस दौरान भीड़ हिंसा पर उतारू हो गई, पुलिस फायरिंग में दो मुस्लिम युवकों की मौत

Updated: Jun 11, 2022, 10:28 AM IST

रांची में हिंसा के दौरान घायल दो युवकों की मौत, गोली लगने से हुए थे घायल, UP में 200 से ज्यादा गिरफ्तार

नई दिल्ली। देशभर में बीते दिन जुमे की नमाज के बाद जुटी भारी भीड़ ने पैगंबर के खिलाफ बीजेपी नेताओं की विवादित टिप्पणी के विरोध में उग्र प्रदर्शन किया। बैनर, पोस्टर के साथ प्रदर्शन कर रहे लोग बीजेपी नेताओं की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। इस दौरान झारखंड की राजधानी रांची शहर में हुई हिंसा के दौरान घायल दो मुस्लिम युवकों की मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक मृतकों में में 22 साल का मोहम्‍मद कैफी और 24 साल का मोहम्‍मद साहिल शामिल है। रांची के सिटी एसपी अंशुमान कुमार ने कहा कि दोनों की गोली लगने से मौत हुई है। वहीं हिंसा में आठ नागरिक और चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिन्‍हें रिम्‍स और एक अन्‍य अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। 

सिटी एसपी ने बताया कि कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है, जिनसे पूछताछ की जाएगी। उन्‍होंने कहा कि फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है और हिंसा प्रभावित इलाकों में धारा 144 लगाई गई है। गौरतलब है कि जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा के बाद प्रशासन ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए रांची शहर के प्रभावित इलाकों में तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया था और पुलिस ने हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में लाउडस्पीकर से इसकी घोषणा की थी।

यह भी पढ़ें: राजस्थान में मुंह की खाए सुभाष चंद्रा, उल्टा पड़ गया क्रॉस वोटिंग का दांव, तीसरे सीट पर भी कांग्रेस ने मारी बाजी

हालांकि, देर शाम करीब पौने छह बजे स्थिति नियंत्रण में देखते हुए उपायुक्त छविरंजन ने अपना आदेश बदला और कर्फ्यू के स्थान पर मेन रोड समेत शहर के कुछ अन्य इलाकों में निषेधाज्ञा लगाने का आदेश जारी किया है। हिंसा के बाद प्रशासन ने एहतियात के तौर पर रांची में शुक्रवार शाम सात बजे से शनिवार सुबह छह बजे तक के लिए इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी थी। फिलहाह वहां स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन इलाके में तनाव है।

उधर उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में हुई पत्थरबाजी और आगजनी की घटना के बाद पुलिस ने सख्ती से कार्रवाई शुरू कर दी है। प्रदेश के विभिन्न जिलों से 200 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा, 'राज्यभर से 227 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 48 प्रदर्शनकारियों को सहारनपुर से, 68 को प्रयागराज से, 28 को अंबेडकर नगर से, 50 को हाथरस से, 25 को मुरादाबाद से और 8 को फिरोजाबाद जिले से गिरफ्तार किया गया है।'