हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं, प्रवक्ता नुपुर शर्मा के विवादित बयान से BJP ने किया किनारा

बीजेपी ने रविवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि, 'पार्टी किसी भी धर्म के पूजनीयों का अपमान स्वीकार नहीं करती है, किसी भी धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला विचार स्वीकृत नहीं है

Updated: Jun 05, 2022, 02:51 PM IST

हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं, प्रवक्ता नुपुर शर्मा के विवादित बयान से BJP ने किया किनारा
Photo Courtesy: NDTV

नई दिल्ली। पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा के विवादित बयान पर जारी विरोध के बीच बीजेपी ने उनसे दूरी बना ली है। बीजेपी ने न सिर्फ इस तरह के बयानों की निंदा की है, बल्की प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं। खास बात यह है कि बीजेपी ने यह बयान तब जारी किया है जब हाल ही में अमेरिका ने देश में अल्पसंख्यकों को हो रहे हमलों को लेकर चिंता जताई है।

बीजेपी मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह द्वारा रविवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति में लिखा गया है कि, 'भारत के हजारों वर्षों के इतिहास में प्रत्येक धर्म फला-फूला है। भारतीय जनता पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है। बीजेपी किसी भी धर्म के किसी भी धार्मिक व्यक्ति के अपमान की कड़ी निंदा करती है। पार्टी किसी भी विचारधारा के सख्त खिलाफ है, जो किसी भी संप्रदाय या धर्म का अपमान करती है। बीजेपी ऐसे किसी विचारधारा का प्रचार नहीं करती।' 

प्रेस विज्ञप्ति में आगे लिखा गया है कि, 'भारत का संविधान प्रत्येक नागरिक को अपनी पसंद के धर्म के अभ्यास का अधिकार देता है। जैसा कि भारत अपनी स्वतंत्रता के 75वें वर्ष का जश्न मना रहा है, हम भारत को एक महान देश बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं जहां सभी समान हैं और हर कोई सम्मान के साथ रहता है, जहां सभी भारत की एकता और अखंडता के लिए प्रतिबद्ध हैं, जहां सभी विकास और विकास के फल का आनंद लेते हैं।'

यह भी पढ़ें: मोहन भागवत ने कहा हर मस्जिद में शिवलिंग ढूंढना ग़लत, कांग्रेस ने बताया अमेरिकी आलोचना का असर

धर्मांधता के खिलाफ बीजेपी ने ऐसा बयान जारी किया है जिसकी विरोधी खेमें में भी तारीफ हो रही है। पार्टी के स्टैंड में अचानक हुए इस परिवर्तन को लेकर लोग चकित हैं।  यह बयान तब आया है जब भारत में अल्पसंख्यकों पर आए दिन होने वाले हमलों को लेकर अमेरिका ने न केवल चिंता जताई है, बल्की सार्वजनिक रूप से रिपोर्ट भी जारी किया है। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद ही संघ प्रमुख मोहन भागवत के विचार भी बदले बदले से नजर आए, जब उन्होंने कहा कि मस्जिदों में शिवलिंग ढूंढना गलत है।