नई प्राइवेसी पॉलिसी पर WhatsApp की सफाई, कहा, प्राइवेट मैसेज नहीं पढ़ सकती कंपनी

WhatsApp की प्राइवेसी पॉलिसी की चौतरफा आलोचना और बड़ी तादाद में यूज़र्स के WhatsApp छोड़ने से घबराई कंपनी अब FAQ पेज के जरिए आशंकाएं दूर करने की कोशिश कर रही है

Updated: Jan 12, 2021, 06:24 PM IST

नई प्राइवेसी पॉलिसी पर WhatsApp की सफाई, कहा, प्राइवेट मैसेज नहीं पढ़ सकती कंपनी
Photo Courtesy: Indian Express

नई दिल्ली। अपनी नई प्राइवेसी प़ॉलिसी को लेकर WhatsApp की काफी आलोचना हो रही है। ऐसी खबरें भी आईं कि बड़ी संख्या में लोगों ने व्हॉट्सऐप छोड़कर दूसरे ऐप इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इन खबरों से घबराई कंपनी ने लोगों की आशंकाओं को दूर करने के लिए बार-बार पूछे जाने वाले सवालों के जवाब दिए हैं। इसके लिए कंपनी ने एक एक नया FAQ (Frequently Asked Questions) पेज जारी किया है। इसमें कंपनी ने सफाई दी है कि WhatsApp अपने यूजर्स की निजी जानकरियां ट्रैक नहीं करता और न ही वो फेसबुक के साथ अपने यूजर्स का कोई डेटा शेयर करता है।

WhatsApp ने अपनी सफाई में कहा है कि उसकी नई प्राइवेसी में हुए बदलाव केवल व्हॉट्सऐप बिज़नेस से जुड़े हैं, जो वैकल्पिक यानी ऑप्शनल है। जबकि कंपनी अपने यूजर्स के प्राइवेट मैसेज या कॉल को ट्रैक नहीं करती है। व्हॉट्सऐप ने अपनी सफाई में कहा है कि उसके प्लेटफॉर्म पर किए गए चैट पूरी तरह से इनक्रिप्टेड होते हैं। कंपनी अपने यूजर्स के प्राइवेट संदेशों को नहीं पढ़ती है। कंपनी यूजर्स द्वारा किए गए व्हॉट्सऐप कॉल को भी नहीं सुन सकती। कंपनी का दावा है कि उसके नए पॉलिसी अपडेट का इन बातों पर कोई असर नहीं पड़ा है। 

व्हॉट्सऐप ने लोकेशन डेटा को लेकर कहा है कि वो भी दो यूजर्स के बीच तक ही सीमित रहता है। मसलन, अगर को व्यक्तियों के बीच व्हॉट्सऐप पर लोकेशन साझा की गई है, तो वो भी केवल उन्हीं दो लोगों तक ही सीमित रहता है। कंपनी लोकेशन को ट्रैक नहीं करती है। 

कंपनी ने अपने स्पष्टीकरण में यह भी कहा है कि वो फेसबुक से किसी तरह का कोई डेटा साझा नहीं करती है। कंपनी ने कहा है कि को यूजर्स के एड्रेस बुक से केवल कॉन्टैक्ट लिस्ट को एक्सेस करती है ताकि मैसेंजिंग की प्रक्रिया को आसान और तेज किया जा सके। कंपनी ने कहा है कि वो फेसबुक के दूसरे ऐप्स के साथ भी डेटा शेयर नहीं करती। 

दरअसल हाल ही में व्हॉट्सऐप नई प्राइवेसी पॉलिसी लेकर आया है। जिसमें कंपनी ने बताया है कि वो कैसे अपने यूजर्स का डेटा को प्रोसेस करती है और फेसबुक के साथ कैसे साझा करती है। कंपनी ने अपने यूजर्स को नई पॉलिसी से सहमत होने के लिए 8 फरवरी तक का समय दिया है।