दक्षिण अफ्रीका दौरे पर 7 बल्लेबाजों के साथ उतरे भारतीय टीम, पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने दी सलाह

वसीम जाफर ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजी अटैक और पिछले दौरे में भारतीय बल्लेबाजों के लचर प्रदर्शन को देखते हुए टीम को सात बल्लेबाजों के साथ मैदान में उतरना चाहिए, इसके साथ ही उन्होंने भारतीय टीम को इन चार गेंदबाजों से साथ मैदान में उतरने की सलाह दी है

Publish: Dec 24, 2021, 12:20 PM IST

दक्षिण अफ्रीका दौरे पर 7 बल्लेबाजों के साथ उतरे भारतीय टीम, पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने दी सलाह

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट सीरीज के आगाज़ से पहले पूर्व भारतीय क्रिकेटर वसीम जाफर ने टीम इंडिया को 7 बल्लेबाजों के साथ मैदान में उतरने की सलाह दी है। वसीम जाफर ने पिछले दक्षिण अफ्रीकी दौरे की याद दिलाते हुए कहा है कि भारतीय टीम को 7+4 के कॉम्बिनेशन के साथ मैदान में उतरना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने चार गेंदबाजों के नाम भी सुझाए हैं, जिनके साथ भारतीय टीम मैदान में उतर सकती है। 

वसीम जाफर ने कहा कि 2018 के दक्षिण अफ्रीकी दौरे पर कुल 6 पारियों में से भारतीय टीम महज़ एक मर्तबा ही 250 से अधिक रन स्कोर बोर्ड पर टांग पाई। यही कारण रहा कि तीनों टेस्ट मैचों में 20 विकेट चटकाने के बावजूद सीरीज हमारे हाथ से फिसल गई।

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा कि इसलिए इस सीरीज में भारतीय टीम को एक अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ ही उतरना चाहिए। वसीम जाफर ने कहा कि वे जसप्रीत बुमराह, शमी, सिराज और अश्विन के साथ खेलना पसंद करेंगे। 

भारतीय टीम को जोहांसबर्ग में दक्षिण अफ्रीकी दौरे की शुरुआत करनी है। यह मुकाबला 26 दिसंबर से शुरू होगा। भारतीय टीम अब तक सात मर्तबा दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर जा चुकी है। लेकिन अब तक टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका में एक भी सीरीज जीतने में कामयाब नहीं हो पाई है। 

दक्षिण अफ्रीका में पहला टेस्ट मैच जीतने के लिए भी भारतीय टीम को काफी लंबा इंतजार करना पड़ा था। भारतीय टीम ने 2006 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में अफ्रीकी सरजमीं पर अपना पहला टेस्ट मुकाबला जीता था। भारतीय टीम ने यह जीत जोहांसबर्ग में ही हासिल की थी। यह मुकाबला उस सीरीज का पहला मुकाबला था। पूर्व क्रिकेटर वसीम जाफर भी उस सीरीज में भारतीय टीम का हिस्सा थे। हालांकि भारतीय टीम वह सीरीज भी हार गई थी। 

यह भी पढ़ें : शास्त्री और कोहली को मॉनिटर करने के लिए BCCI ने धोनी को बनाया था मेंटोर, पूर्व क्रिकेटर का दावा

इसके बाद 2011 के वर्ल्ड कप से ठीक पहले धोनी की अगुवाई में भारतीय टीम 2010-11 में दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर गई। भारतीय टीम उस सीरीज में सेंचुरियन में खेला गया पहला मुकाबला हार गई। लेकिन डरबन में वापसी करते हुए भारतीय टीम ने अफ्रीकी टीम के खिलाफ जीत दर्ज की। केपटाउन में अंतिम दिन भारतीय टीम को तीन सौ से अधिक रनों का लक्ष्य मिला। लेकिन यह मैच ड्रॉ होने के साथ साथ सीरीज भी एक एक ही बराबरी पर समाप्त हो गई। 

2018 में विराट कोहली की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका गई भारतीय टीम को सीरीज में 1-2 से शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। सीरीज में 0-2 से पीछे चल रही भारतीय टीम ने आखिरी मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 63 रनों से मात देकर अपनी साख बचाने में सफलता प्राप्त कर ली।