टोलो न्यूज़ के कैमरामैन तालिबान की हिरासत में, काबुल में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

टोलो न्यूज़ के कैमरामैन वाहिद अहमदी को तालिबान ने अपनी हिरासत में लिया है, वे काबुल में आयोजित एक प्रदर्शन को कवर करने गए हुए थे

Updated: Sep 07, 2021, 03:26 PM IST

टोलो न्यूज़ के कैमरामैन तालिबान की हिरासत में, काबुल में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

नई दिल्ली। तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान के प्रमुख मीडिया संस्थान टोलो न्यूज़ के कैमरामैन को अपनी हिरासत में ले लिया है। टोलो न्यूज़ के कैमरामैन वाहिद अहमद के तालिबानी हिरासत में होने की पुष्टि खुद टोलो न्यूज़ के पत्रकार ज़ियार खान ने की है। तालिबानी हिरासत में मौजूद वाहिद अहमदी काबुल में हुए आज पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शन को कवर करने गए थे। जहां पर तालिबानी लड़ाकों ने उन्हें पकड़ लिया।  

सोमवार देर रात से ही काबुल में पाकिस्तान का जमकर विरोध हो रहा है। मंगलवार सुबह से ही अफ़ग़ानी नागरिक काबुल की सड़कों पर उतर आए। महिलाओं और पुरूषों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए। पाकिस्तान विरोधी नारों को सुनकर तालिबानी आतंकियों ने अफ़ग़ानी नागरिकों पर फारयरिंग करना शुरू कर दिया। जिसके बाद प्रदर्शनकारी तितर-बितर हो गए। इसी दौरान इस पूरे घटनाक्रम को कवर कर रहे वाहिद अहमदी को तालिबान ने अपनी हिरासत में ले लिया। हाल ही में तालिबान ने टोलो न्यूज़ के पत्रकार ज़ियार खान के साथ भी मारपीट की थी। 

यह भी पढ़ें ः तालिबानी आतंकियों ने अफगानी पत्रकार पर किया हमला, पत्रकार को करना पड़ा खुद की मौत का खंडन

अफ़गानी नागरिक काबुल में राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च कर रहे थे। मार्च के दौरान नागरिकों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद का नारा तो लगाया ही, साथ ही पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ के लिए मौत की दुआएं मांगनी भी शुरू कर दी। नारेबाज़ी को बंद करने के लिए तालिबानियों ने आंदोलनकारियों पर हमला करना शुरू कर दिया।  

दरअसल काबुल में राष्ट्रपति भवन के पास सेरेना होटल है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि आईएसआई प्रमुख इसी होटल में बीते एक हफ्ते से मौजूद है। अफ़ग़ानिस्तान में तालिबानियों के कब्ज़े में लाने में पाकिस्तान की अहम भूमिका मानी जा रही है। पाकिस्तान पर लगातार तालिबान को वित्तीय सहायता सहित अन्य सहायता देने के आरोप शुरू से ही लग रहे हैं। ऐसे में आज अफ़गानी नागरिकों ने काबुल की सड़कों पर पाकिस्तान के खिलाफ हमला बोल दिया।