भाजपा नेता का आरोप MP की जेल में शराब व शबाब

पूर्व मंत्री जयंत मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया ने शिवराज सरकार को बताया 'अधूरी सरकार', BJP समर्थक MLA रामबाई के खिलाफ मोर्चा खोला

Publish: Jun-26, 2020, 09:20 PM IST

भाजपा नेता का आरोप MP  की जेल में शराब व शबाब

मध्यप्रदेश के दमोह जिले में बहुचर्चित देवेन्द्र चौरसिया हत्याकांड मामले में वरिष्ठ बीजेपी नेता व पूर्व मंत्री जयंत मलैया के पुत्र सिद्धार्थ मलैया ने BJP सरकार की समर्थक बीएसपी विधायक रामबाई सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मलैया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस मेंं में कहा कि ऐसा सुनने में आता है कि जेल के अंदर शराब और शबाब दोनों की व्यवस्था रहती है। एमपी की शिवराज सरकार की असहायता पर तंज कसते हुए सिद्धार्थ मलैया ने कहा कि अधूरी सरकार में ऐसा ही होता है।

सिद्धार्थ मलैया ने जिला जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाया कि जेल में पैसों का लेनदेन कर अपराधियों को अनैतिक संरक्षण दिया जाता है। उन्होंने कहा, 'जेलर का बेटा अपराधियों से पैसा लेकर उन्हें रात में बाहर जाने देता है नतीजन रात भर अपराधी बाहर रहते हैं और सुबह लौट आते हैं। ऐसा सुनने में आता है कि जेल के अंदर शराब और शबाब दोनों की व्यवस्था रहती है।'

बीजेपी नेता सिद्धार्थ मलैया ने कहा की विधायक रमाबाई का इलाके में खौफ है और उनके खिलाफ कोई पत्रकार लिखना या बोलना नहीं चाहता। सब को डर लगता है। हमें भी डर लगता था कि कहीं मेरी मां की पब्लिक इंस्टिट्यूट में वो हमला न करवा दे लेकिन अब और डर कर नहीं रहूंगा। पिछले डेढ़ साल से चुप था लेकिन अब और अनैतिक कार्यों को बर्दाश्त नहीं करूंगा। 

मलैया ने सोशल मीडिया पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की वीडियो भी शेयर किए हैं। इसके साथ उन्होंने लिखा विलंब हो गया सोमेश तुम्हारे साथ खड़े होने में। क्षमा चाहता हूँ।अन्याय और अत्याचार के ख़िलाफ़ खड़ा था और आगे भी खड़ा रहूँगा।' उन्होंने आगे लिखा है कि दमोह की जनता का चिर हरण रोकने में स्वयं जनता को ही कृष्ण बनना होगा।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल, मार्च 2018 में दमोह जिले के हटा में कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या हो गई थी। कांग्रेस विधायक के परिजनों ने इस हत्याकांड में पथरिया बसपा विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह सहिच 7 अन्य लोगों पर हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस ने रमाबाई के पति गोविंद सिंह, देवर कौशलेंद्र सिंह, भतीजा गोलू सिंह, श्रीराम शर्मा, अमजद पठान, लोकेश सिंह और जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के बेटे इंद्रपाल पटेल के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की की थी। मामले में विधायक और उनके पति को कोर्ट ने क्लीन चीट दे दी है वहीं उनके देवर व अन्य रिश्तेदार अभी जेल में हैं।