सोशल मीडिया पर 56.9 फीसदी लोगों ने सीएम को बताया भ्रष्टाचारी, एमपी कांग्रेस ने कराया पोल

दूसरे नंबर पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं, वहीं भ्रष्ट नेता के तौर पर तीसरा स्थान बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को मिला है

Updated: Jan 21, 2022, 11:43 AM IST

सोशल मीडिया पर 56.9 फीसदी लोगों ने सीएम को बताया भ्रष्टाचारी, एमपी कांग्रेस ने कराया पोल

भोपाल। सोशल मीडिया पर लोगों की राय में मध्य प्रदेश के सबसे भ्रष्ट नेता खुद प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान हैं। सोशल मीडिया पर हुए भ्रष्ट नेताओं के पोल में सीएम शिवराज ने बाज़ी मार ली। भ्रष्ट नेता के तौर पर लोगों ने उनके पक्ष में सबसे अधिक वोट किया। सीएम शिवराज के बाद लोगों ने दूसरा सबसे भ्रष्ट नेता केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को करार दिया। 

हालांकि सीएम शिवराज और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के पक्ष में पड़े वोटों का फासला काफी अधिक रहा। सीएम शिवराज को करीब 57 फीसदी लोगों ने मध्य प्रदेश का सबसे भ्रष्ट नेता माना। जबकि प्रदेश में चोर दरवाज़े के जरिए बीजेपी की सरकार बनाने में सबसे बड़ी भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को करीब 27 फीसदी लोगों ने सबसे भ्रष्ट नेता माना।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का नाम भी भ्रष्ट नेताओं की सूची में शामिल है। कैलाश विजयवर्गीय भ्रष्ट नेताओं की सूची में तीसरे नंबर पर रहे। भ्रष्ट नेता के तौर पर करीब 12 फीसदी लोगों कैलाश विजयवर्गीय के पक्ष में वोट किया। 

यह भी पढ़ें : सीएम हाउस के लिए पैदल निकले दिग्विजय सिंह, देवास चले गए मुख्यमंत्री शिवराज

दरअसल गुरुवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्विटर पर एक पोल शुरू किया था। जिसमें लोगों से पूछा गया था कि उनकी नज़र में सबसे भ्रष्ट नेता कौन है? इसके लिए लोगों को चार विकल्प दिए गए थे, जिसमें सीएम शिवराज, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का नाम शामिल था। 

पोल में लगभग बारह हजार लोगों ने हिस्सा लिया। कुल 11,919 लोगों ने वोट के ज़रिए अपनी राय वक्त की। जिसमें 56.9 फीसदी लोगों ने सीएम शिवराज के लिए वोट किया। वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया को 27.2 फीसदी लोगों ने सबसे भ्रष्ट नेता माना। कैलाश विजयवर्गीय 12.3 फीसदी लोगों की नज़र में सबसे भ्रष्ट नेता साबित हुए। जबकि वीडी शर्मा को 3.6 फीसदी लोगों ने सबसे भ्रष्ट नेता चुना।