भर्ती सत्याग्रह का आठवां दिन: पुलिस ने दी थी जेल में डालने की धमकी, छात्रों ने धरनास्थल को ही बना दिया जेल

पिछले 21 सितंबर से मध्य प्रदेश के युवा इंदौर में सत्याग्रह पर बैठे हैं, धरनास्थल पर ही उन्होंने अस्थाई जेल बनाया है, 2 अक्टूबर को प्रदर्शनकारी युवा भोपाल की ओर कूच करेंगे

Updated: Sep 28, 2022, 07:34 PM IST

भर्ती सत्याग्रह का आठवां दिन: पुलिस ने दी थी जेल में डालने की धमकी, छात्रों ने धरनास्थल को ही बना दिया जेल

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में पढ़े-लिखे बेरोजगार युवाओं के भर्ती सत्याग्रह का आज आठवां दिन है। छात्रों ने धरनास्थल को अस्थाई जेल में तब्दील कर दिया है। उन्होंने बताया कि पुलिस हमें जेल में डालने की धमकी दे रही थी। इसलिए हमने भगत सिंह की जयंती पर खुद ही जेल बना ली। 

सत्याग्रह के आठवें दिन बुधवार को शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती के मौके पर युवाओं ने सांकेतिक रूप से जेल भरो आंदोलन शुरू किया है। वे अब धरनस्थल पर बने अस्थाई जेल में अनशन कर रहे हैं। युवाओं ने कहा कि, 'मध्य प्रदेश मे पढ़ाई करना गुनाह हो गया बड़ी-बड़ी परीक्षाओ की तैयारी करना गुनाह है। रोजगार की मांग करने पर हमें नोटिस दिए जा रहे हैं। FIR की जा रही है और जेल में डालने की धमकी दी जा रही है। हमने आज खुद जेल बना ली।'

बता दें कि हर गुजरते दिन के साथ प्रदर्शनकारी युवा अपने संघर्ष को तेज कर रहे हैं। अबतक बेरोजगार युवा रोज अलग-अलग गतिविधियां कर सरकार का ध्यान अपनी और आकर्षित करने में लगे थे। लेकिन सकारात्मक जवाब न मिलने से दुखी युवाओं ने आज भोपाल कूच करने का ऐलान कर दिया है।

NEYU के बैनर तले विरोध प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने 2 अक्टूबर से भोपाल के लिए पैदल मार्च करने का ऐलान किया है। NEYU ने प्रदेशभर के छात्रों से इस पदयात्रा में शामिल होने का आह्वान किया है। पढ़े लिखे बेरोजगार छात्रों के इस संगठन ने बताया कि गांधी जयंती के मौके पर सुबह दीनदयाल पार्क से भोपाल के लिए पैदल निकलेंगे। संगठन ने इसे अंतिम लड़ाई बताया है। यात्रा से जुड़ने के लिए उन्होंने व्हाट्सएप नंबर भी जारी किए हैं। NEYU का दावा है कि इस यात्रा में हजारों छात्र शामिल होंगे।

प्रदर्शनकारी छात्र बेरोजगारी की समस्या का समग्र समाधान निकालने के लिए मध्य प्रदेश रोजगार कानून बनाने की मांग कर रहे हैं। छात्रों की प्रमुख मांग ये है कि पिछले कई सालों से रुकी हुई सभी भर्ती प्रक्रियाओं को तत्काल पूरा किया जाए। साथ ही MPPSC की 2019, 2020 और 2021 की भर्तियां जल्द से जल्द पूरी की जाएं। इसके अलावा उन्होंने व्यापम के एक लाख पदों (जिसमें एसआई, पटवारी, कॉन्स्टेबल, एग्रीकल्चर इत्यादि शामिल हैं) को तत्काल भरने की मांग की है।