जज से मारपीट करने वाला हमलावर धराया, कहा, पता नहीं था कि वो जज हैं

शनिवार रात को जज सचिन जैन पर कुल 6 कार सवार अज्ञात लोगों ने हमला किया था, और जज की सोने की चेन लूटकर फरार हो गए थे, तलाश करते करते पुलिस के हत्थे एक व्यक्ति चढ़ा है, जिसने अपना जुर्म कबूलते हुए सभी साथियों के नाम भी ज़ाहिर कर दिए हैं

Publish: Mar 30, 2021, 06:50 PM IST

जज से मारपीट करने वाला हमलावर धराया, कहा, पता नहीं था कि वो जज हैं
Photo Courtesy : Naidunia

भोपाल/ग्वालियर। शनिवार रात जज सचिन जैन के साथ ग्वालियर में हुई मारपीट और लूट के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम आनंद रजक है। आरोपी का कहना है कि अगर उसे और उसके दोस्तों को यह पता होता कि जिसके साथ वे लोग मारपीट और लूट कर रहे हैं, वो जज हैं तो वे लोग कभी ऐसा नहीं करते।  

पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी ने अपना जुर्म कबूलने के साथ साथ उस दिन वारदात में उसके साथ शामिल सभी साथियों के नाम ज़ाहिर कर दिए हैं। आरोपी आनंद रजक ने अपने अलावा पांच अन्य साथियों के नाम बताए हैं। आनंद रजक ने बताया है कि शनिवार को जज के साथ मारपीट और लूट में उसके साथ सुधीर कमरिया, धर्मेंद्र गौतम, अभिषेक दुबे, शिवम यादव, उत्कर्ष शुक्ला शामिल थे। पुलिस ने आनंद रजक के सभी साथियों की तलाश शुरू कर दी है। 

 यह भी पढ़ें : भिंड में सैनिटाइज़र पीने से दो युवकों की मौत, एक की हालत गंभीर, होली पर शराब न मिलने के कारण पिया था सैनिटाइज़र

दरअसल शनिवार रात को ग्वालियर के मजिस्ट्रेट कॉलोनी थाटीपुर में न्यायिक मजिस्ट्रेट सचिन जैन पर कुछ कार सवार युवकों ने हमला किया था। आरोपियों ने जज को कट्टे और बन्दुक के बट से सिर पर वार बेहरहमी से वार किया था। जज को बेरहमी से पीटकर हमलावर 20 तौले की सोने की चेन लेकर फरार हो गए थे। पुलिस ने जज की शिकायत पर इस मामले में सुधीर कमरिया सहित 6 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। हमलावरों की गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर दतिया के रहने वाले सुधीर कमरिया के नाम पर था। लिहाज़ा पुलिस पिछले तीन दिनों से अज्ञात आरोपियों की तलाश शुरू कर दी थी। 

 यह भी पढ़ें : बीजेपी में बिन बुलाए मेहमान जैसे हो गए हैं महाराज, बंगाल स्टार प्रचारकों में 24वें पायदान पर रहने वाले सिंधिया पर कांग्रेस का तंज

आनंद रजक पुलिस की हिरासत में आ चुका है। उसने एक अन्य आरोपी अभिषेक दुबे का पता भी पुलिस को बता दिया है। उसका कहना है कि मारपीट वाली शाम वो थाटीपुर स्थित अभिषेक दुबे के शासकीय क्वार्टर में गया था। वहीं से लौटते समय यह सारी वारदात हुई। हालांकि आनंद रजक का कहना है कि वो इस मामले में बेकसूर है।