MP: बस अड्डे पर भीख मांगकर शख्स ने पत्नी के लिए खरीदी गाड़ी, अब मोपेड से घूमकर मांगते हैं भीख

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में एक भिखारी ने अपनी पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए 90 हजार कैश देकर मोपेड खरीदी है, रुपए जमा करने में उसे चार साल लगे, अब दोनो दंपत्ति मोपेड से घूमकर भीख मांगते हैं

Updated: May 23, 2022, 06:12 PM IST

MP: बस अड्डे पर भीख मांगकर शख्स ने पत्नी के लिए खरीदी गाड़ी, अब मोपेड से घूमकर मांगते हैं भीख

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में एक शख्स ने बस अड्डे पर भीख मांगकर गाड़ी खरीद ली। शख्स ने अपनी पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए चार साल तक रुपए जमा किए और अब जाकर उसने 90 हजार की मोपेड खरीदी है। वाहन खरीदने के बाद दोनों दंपत्ति अब घूम-घूमकर भीख मांगते हैं।

जानकारी के मुताबिक छिंदवाड़ा के अमरवाड़ा में रहने वाले संतोष साहू दोनों पैरों से दिव्यांग हैं और वह बस अड्डे पर भीख मांगते हैं और इससे जीवन यापन करते हैं। बस अड्डे तक वह ट्राई साइकिल से जाते थे। संतोष की मदद उसकी पत्नी मुन्नी ट्राई साइकिल धकेलने में उनकी मदद करती थीं। संतोष की पत्नी की इच्छा थी की उनके पास एक मोटर बाइक होती जिससे दोनों पति पत्नी भीख मांगने जाते।

यह भी पढ़ें: चाइल्ड ट्रैफिकिंग का केंद्र बना मध्य प्रदेश, 2021 में प्रतिदिन लापता हुए 29 बच्चे, लड़कियों की संख्या पांच गुना अधिक

संतोष बताते हैं कि एक बार मुन्नी की तबीयत खराब हो गई थी। उनके इलाज में 50 हजार रुपये लगे। इसके बाद वह बेहद कमजोर हो गई और ट्राइसाइकिल को धक्का लगाना मुन्नी के लिए काफी मुश्किल हो गया। इसलिए संतोष ने तय किया कि वो गाड़ी खरीदेंगे। उन्होंने गाड़ी खरीदने के लिए पैसे जोड़ने शुरू कर दिए। 

संतोष ने बताया कि लोगों से प्रतिदिन करीब 300 से 400 रुपये मिल जाते थे। इसके अलावा दोनों टाइम का खाना भी मिल जाता था। बस, इन्हीं पैसों को वो बचाने लगे। धीरे-धीरे करके चार साल में उन्होंने 90 हजार रुपये इकट्ठा कर लिया। अब 90 हजार कैश देकर उन्होंने मोपेड खरीदी है, ताकि उनकी पत्नी को ट्राइसाइकिल पर धक्का न लगाना पड़े। पति-पत्नी इसी गाड़ी से भीख मांगने जाते हैं।

दोनों पति पत्नी अब मोपेड पर बैठकर बस स्टैंड, मंदिर और दरगाह तक भीख मांगने जाते हैं। पति पत्नी जब भी भीख मांगने के लिए मोपेड से निकलते हैं लोग उन्हें देखने लगते हैं। वाहन खरीदकर शहर में वह काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं। बता दें कि छिंदवाड़ा की ही गलियों में बार कोड से पैसे लेने वाला भिखारी भी सुर्खियां बटोर चुका है।