ग्वालियर: 20 कॉलेजों का मालिक निकला प्राइमरी टीचर, आय से हजारों गुना ज्यादा संपत्ति का खुलासा

मध्य प्रदेश के एक शासकीय प्राइमरी स्कूल का शिक्षक निकला धनकुबेर, EOW के छापेमारी में हुआ काले खजाने का खुलासा, 20 कॉलेज, मैरिज गार्डन और स्कूल का है मालिक

Updated: Mar 27, 2022, 04:12 PM IST

ग्वालियर: 20 कॉलेजों का मालिक निकला प्राइमरी टीचर, आय से हजारों गुना ज्यादा संपत्ति का खुलासा

ग्वालियर। मध्य प्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा यानी EOW ने ग्वालियर में एक प्राइमरी स्कूल के सहायक शिक्षक के घर छापा मारा तो अधिकारियों के होश उड़ गए। यह प्राइमरी शिक्षक 20 कॉलेजों का मालिक निकला। जिनमें डीएड, बीएड और नर्सिंग कॉलेज शामिल हैं। शिक्षक ने अपनी काली कमाई से एक मैरिज गार्डन और एक स्कूल भी खोल रखा है।

ईओडब्ल्यू के पुलिस उपाधीक्षक सतीश चतुर्वेदी ने बताया कि ग्वालियर निवासी सहायक शिक्षक प्रशांत परमार के चार ठिकानों पर EOW ने एकसाथ कार्रवाई की। छापेमार कार्रवाई में शिक्षक के पास से हजार गुना अधिक संपत्ति का खुलासा हुआ है। शिक्षक ने अपने अब तक के काल में 25 से 30 लाख की सैलरी पाई है लेकिन असल में इनकी संपत्ति अभी तक कमाई से 1000 गुना अधिक है।

यह भी पढ़ें: OBC समाज के साथ अन्याय कर रही है शिवराज सरकार, चयनित शिक्षकों से मुलाकात के बाद बोले अरुण यादव

चतुर्वेदी के मुताबिक इस छापेमार कार्रवाई में यह पता लगा है के इस सहायक शिक्षक के पास 20 कॉलेज जिसमें नर्सिंग कॉलेज भी शामिल है के अलावा, एक मैरिज गार्डन और एक स्कूल भी है। फिलहाल, शिक्षक के चार ठिकाने नूराबाद, सत्यम टॉवर, सत्यम कॉरपोरेट और कोटेश्वर स्थित दफ्तर में EOW की टीम की कार्रवाई जारी है। जब कार्रवाई पूरी होगी तब जाकर पूरी संपत्ति का आकलन हो पाएगा। 

रिपोर्टस के मुताबिक सत्यम टॉवर स्थित जिस आलीशान फ्लैट में परमार रहता था, उसकी कीमत करोड़ों में है। परमार के ठिकाने से कई चेकबुक और अन्य अहम दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। EOW अधिकारी इन डॉक्युमेंट्स का मिलान कर रहे हैं और जानकारी जुटाई जा रही है कि शिक्षक ने इतनी संपत्ति कैसे बनाई। EOW अधिकारी चतुर्वेदी ने कहा कि तृतीय श्रेणी कर्मचारी के पास करोड़ों की संपत्ति होना चौंकाने वाला है।