तेंदुए ने दो भाइयों पर किया हमला, जान बचाने के लिए भूखे तेंदुए को खिलाया बर्थडे केक

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में केक लेकर जा रहे बाइकसवार पर भूखे तेंदुए ने किया हमला, बाइक के पीछे बैठे युवक ने तेंदुए के मुंह पर मारा केक, मीठे स्वाद से घबराकर भागा तेंदुआ

Updated: Jun 30, 2021, 07:01 PM IST

तेंदुए ने दो भाइयों पर किया हमला, जान बचाने के लिए भूखे तेंदुए को खिलाया बर्थडे केक
Photo Courtesy : India.com

बुरहानपुर। मध्यप्रदेश के बुरहानपुर से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है। यहां जान बचाने के लिए दो भाइयों ने भूखे तेंदुए को बर्थडे केक खिला दिया। केक का मीठा स्वाद चखने के बाद तेंदुआ वहां से नौ दो ग्यारह हो गया।

मामला राजधानी भोपाल से करीब 320 किलोमीटर दूर स्थित नेपानगर का है। जानकारी के मुताबिक ग्राम गोडारिया के निवासी फिरोज मंसूरी के बेटे का रविवार को जन्मदिन था। बेटे जन्मदिन के मौके पर फिरोज अपने भाई साबिर के साथ केक लेने नेपानगर गए हुए थे। 

शाम के करीब 6 बजे जब दोनों भाई केक लेकर बाइक से वापस घर आ रहे थे तो अचानक गन्ने के खेत से निकलकर एक तेंदुए ने इनका पीछा करना शुरू दिया। फिरोज ने बाइक की एक्सीलेटर बढ़ाई और पीछे बैठे साबिर ने केक को जोर से पकड़ा। लेकिन गांव के कच्चे सड़क पर तेंदुए की रफ्तार से ज्यादा तेज बाइक नहीं चल सकती थी। 

यह भी पढ़ें: पहले प्यार फिर शादी से इनकार, प्रेमी ने प्रेमिका समेत 5 लोगों की हत्या कर दफनाया

अचानक तेंदुए ने पंजा मारा लेकिन दोनों बाल-बाल बच गए। हालांकि, इस दौरान केक का बॉक्स फट गया। अचानक साबिर के मन में एक उपाय सुझा और तेंदुए ने जैसे ही दूसरी बार हमला किया, उसने भूखे तेंदुए के मुंह पर दो पाउंड का केक दे मारा। मुंह पर चिपचिपा केक और उसके मीठे स्वाद से तेंदुआ घबरा गया। इतना ही नहीं केक लगने के बाद तेंदुआ खुद वहां से पीछे झाड़ियों में भाग गया।

साबिर के मुताबिक तेंदुए ने करीब 500 मीटर तक उनका पीछा किया था। इस घटना के बाद फिरोज खाली हाथ घर लौटे। बेटे के जन्मदिन के लिए केक तो नहीं था लेकिन उसे खास बनाने के लिए वे अविश्वसनीय कहानी लेकर आए थे। वन विभाग ने इस घटना की पुष्टि करते हुए बताया है कि मौके से तेंदुए के पगमार्क भी मिले हैं।

यह भी पढ़ें: उमरिया में तेज रफ्तार वाहन की टक्कर से 7 महीने के बाघ शावक की मौत

बताया जा रहा है कि इस घटना के एक दिन पहले ही नेपानगर में एक तेंदुआ वन विभाग की गिरफ्त में आया था। वह कुछ दिनों से रहवासी क्षेत्र आदर्श कॉलोनी में घूमता नजर आ रहा था। जिससे आम लोगों दहशत में थे। नेपानगर क्षेत्र में घना वन होने के कारण यहां बाघ, तेंदुआ, चीतल, हिरण सहित अन्य कई जंगली जानवर रहते हैं। 

माना जाता है कि गर्मी के समय अधिकांश जंगली जानवर पानी की तलाश में शहर की ओर कूच करते हैं। यही वजह है कि पिछले कुछ दिनों से तेंदुए शहरी क्षेत्र और गांवों में भी नजर आ रहे हैं। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजरा नहीं लगाया जा सकता है, क्योंकि क्षेत्र में तेंदुए के साथ दो बच्चे के घूमने की भी जानकारी सामने आ रही है।