भांडेर उपचुनाव 2020: फूल सिंह बरैया सिर्फ 51 वोटों से हारे, कांग्रेस ने की दोबारा गिनती की मांग

MP By Elections Results 2020 Live Updates: नतीजों के बाद कांग्रेस उम्मीदवार फूल सिंह बरैया ने फिर से मतगणना कराने का आवेदन दिया

Updated: Nov-10, 2020, 07:08 PM IST

भांडेर उपचुनाव 2020: फूल सिंह बरैया सिर्फ 51 वोटों से हारे, कांग्रेस ने की दोबारा गिनती की मांग
Photo Courtesy : Jagran

भांडेर। भांडेर में कांटे की टक्कर के बीच कांग्रेस उम्मीदवार फूल सिंह बरैया चुनाव हार गए हैं। बरैया को बीजेपी प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया ने महज 51 मतों के अंतर से हरा दिया है। नतीजे आने के बाद फूल सिंह बरैया ने दोबारा  मतगणना कराए जाने की मांग की है। उन्होंने इसके लिए औपचारिक आवेदन भी दे दिया है।

और पढ़ें: MP उपचुनाव रिज़ल्ट 2020 Live Updates: बीजेपी को मिली सत्ता की चाभी, कांग्रेस ने लगाया ईवीएम टेंपरिंग का आरोप

चुनाव आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक बीजेपी उम्मीदवार रक्षा सिरोनिया को कुल 56 हजार 683 मत मिले, जबकि कांग्रेस के फूल सिंह बरैया को 56 हजार 632 वोट हासिल हुए। बीएसपी के टिकट पर किस्मत आजमा रहे महेंद्र बौद्ध को यहां 7 हजार 23 वोट मिले हैं। 

प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में भांडेर का मुकाबला बेहद दिलचस्प माना जा रहा था। मतगणना के दौरान भी पल-पल बदलती स्थिति के कारण अंत तक असमंजस बना रहा कि आखिरकार इसमें जीत किसकी होगी।

परंपरागत रूप से बीजेपी की रही है यह सीट

बता दें कि भांडेर विधानसभा सीट परंपरागत रूप से बीजेपी की सीट रही है। हालांकि, भांडेर से कांग्रेस ने जब साल 2018 में रक्षा सिरोनिया को अपना उम्मीदवार बनाया था, तब वह बीजेपी प्रत्याशी रजनी प्रजापति को 40 हजार के रिकॉर्ड मतों से हराने में सफल हुई थीं। जानकारों की मानें तो इस बड़ी जीत में फूल सिंह बरैया का अहम योगदान था। चूंकि क्षेत्र में खासा दबदबा रखने वाले बरैया ने चुनाव के आठ महीने पहले बसपा छोड़ कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

और पढ़ें: सिंधिया के तीन करीबी पिछड़े, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में महाराज को मामूली झटका

बीएसपी ने ही बिगाड़ा बरैया का खेल

माना जा रहा है कि फूल सिंह बरैया का इस चुनाव में खेल बिगाड़ने में उनकी पुरानी पार्टी बीएसपी का ही हाथ है। चूंकि बीएसपी ने क्षेत्र से कांग्रेस नेता रहे महेंद्र बौद्ध को अपना उम्मीदवार बनाया था। महेंद्र बौद्ध कांग्रेस पार्टी से टिकट चाहते थे लेकिन बरैया की उम्मीदवारी के एलान के बाद नाराज होकर उन्होंने पार्टी छोड़ दी और बसपा का दामन थाम लिया। बौद्ध ने इस चुनाव में सात हजार से ज्यादा वोट हासिल किए।