Flood in MP: सीहोर, होशंगाबाद में बाढ़, सेना बुलाई गई

MP Weather Update: 48 घंटे बारिश होने का अनुमान, बिगड़े हालात को देखते हुए सेना को बुलाया, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने किया हवाई दौरा

Updated: Aug-30, 2020, 07:17 AM IST

Flood in MP: सीहोर, होशंगाबाद में बाढ़, सेना बुलाई गई

भोपाल। मध्यप्रदेश के कई जिलों में रातभर से लगातार बारिश हो रही है। जिससे नर्मदा नदी उफान पर है। सीहोर और होशंगाबाद जिलों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। नर्मदा के बढ़ते जलस्तर की वजह से किनारे पर स्थित गांवों में बाढ़ का पानी भर गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  ने सीहोर और होशंगाबाद में नर्मदा के किनारे स्थित गांवों में बाढ़ और अतिवृष्टि ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई दौरा किया। 

भोपाल, होशंगाबाद तथा जबलपुर संभाग में अतिवर्षा जारी है। अगले 48 घंटों में भी वर्षा जारी रहने की संभावना है। प्रदेश के सभी बांध लगभग भर गए हैं। तवा डेम के 13 में से 13 गेट खोल दिए गए हैं। इंदिरा सागर बांध के 22 गेट, ओंकारेश्वर में 23 में से 21 गेट, राजघाट बांध पर 18 में से 14 गेट, बरगी बांध 21 में से 17 गेट खोले गए हैं। सरदार सरोवर बांध भी हाई लेवल से 7 मीटर नीचे है। मण्डला तथा पेंच बांध के भी गेट खोले गए हैं।

जबलपुर संभाग में छिंदवाड़ा और नरसिंहपुर में सबसे अधिक बारिश हुई है। छिंदवाड़ा के बेलखेड़ा में 150 लोगों को सुरक्षित केम्प में पहुँचाया गया है। यहां बाढ़ में फंसे मधु कहार को सुरक्षित निकाला गया। नर्मदा नदी की सहायक नदियों के पानी से नर्मदा के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। इन्दौर संभाग में सर्वाधिक वर्षा खण्डवा में दर्ज की गई है। सागर संभाग के दमोह, छतरपुर, निवाड़ी भी अतिवर्षा से प्रभावित हैं तथा राहतगढ़ में कुछ परिवारों को कैम्प पहुँचाया गया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैठक

इस स्थिति से निपटने के लिए  शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आपात बैठक बुलाई थी। बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा है कि होशंगाबाद में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए सेना को बुलाया गया है। एनडीआरएफ की दो यूनिट भी मदद के लिए पहुंच रही हैं। वहीं सेना के हेलीकाप्टर भी होशंगाबाद पहुंचेंगे। बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार एयरफ़ोर्स के संपर्क में है। नागपुर एयरफ़ोर्स मुख्यालय से लगातार संपर्क जारी है।

Click Rain in MP: भोपाल में तेज बारिश, डैम लबालब, नर्मदा उफान पर

मध्यप्रदेश सरकार किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। प्रदेश में बाढ़ और वर्षा की स्थिति पर नजर रखने के लिए वल्लभ भवन में और मुख्यमंत्री आवास पर कंट्रोल रूम बनाया गया है। सरकार ने एसडीआरएफ कंट्रोल रुम नंबर 1079 और 100 जारी किया गया है। किसी भी आपात स्थिति में इस पर संपर्क किया जा सकता है।

होशंगाबाद बाढ़

गौरतलब है कि होशांगाबाद में भारी बारिश से नर्मदा का जलस्तर खतरे के निशान 964 फीट से 4 फीट ऊपर यानी 968.90 पर पहुंच गया। वहीं तवा डैम के सभी 13 गेट को 30-30 फीट खोलकर 5 लाख 33 हजार 823 क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा है।

प्रदेश में भोपाल, नरसिंहपुर, जबलपुर, सागर, छिंदवाड़ा, बैतूल, बालाघाट, सिवनी में अच्छी बारिश हो रही है। शुक्रवार रात से जारी भारी बारिश की वजह से बड़े तालाब के कैचमैंट एरिया बने चिरायु अस्पताल तक पहुंच गया। वहीं भोपाल एयरपोर्ट के रनवे में पानी भर जाने के कारण सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया है।

चिरायु अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए कोविड केयर सेंयर बनाया गया है। बारिश का पानी भरने से अस्पताल में भर्ती मरीजों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विज्ञान विभाग ने शनिवार को भी भोपाल में तेज बारिश का अनुमान जताया है। वहीं होशंगाबाद, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, बालघाट, सिवनी, बैतूल जिलों में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है।