रतलाम वन मंडल के डिप्टी रेंजर पर लोकायुक्त का शिकंजा, 25 हजार की घूस लेते किया गिरफ्तार

रतलाम के डिप्टी रेंजर पर लकड़ी से लदी गाड़ी छोड़ने के बदले में एक लाख 20 हजार रुपये की रिश्वत माँगने का आरोप, लोकायुक्त ने 25 हज़ार रुपये लेते समय रंगे हाथों पकड़ा

Updated: Mar 16, 2021, 07:10 PM IST

रतलाम वन मंडल के डिप्टी रेंजर पर लोकायुक्त का शिकंजा, 25 हजार की घूस लेते किया गिरफ्तार
Photo Courtesy: mp breaking

रतलाम। वन मंडल कार्यालय के डिप्टी रेंजर को लोकायुक्त ने 25 हजार रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। आरोप है कि डिप्टी रेंजर ने लकड़ी से भरा वाहन छोड़ने के एवज में एक लाख बीस हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी, जिसमें से फरियादी 70 हजार रुपए पहले ही दे चुका था। बाकी के पचास हजार रुपये में से 25 हजार आज दिए जा रहे थे, जब उज्जैन लोकायुक्त ने डिप्टी रेंजर तनवीर खान को रंगे हाथों पकड़ लिया।

आरोप है कि डिप्टी रेंजर ने शेरानीपुरा निवासी फरियादी सुलेमान खान से जुर्माने के नाम पर घूस मांगी थी। फरियादी का कहना है कि आरोपी रेंजर ने लकड़ी की गाड़ी छोड़ने और आगे कभी नहीं पकड़ने के बदले रुपयों की मांग की थी। पहले वह 70 हजार रुपए ले चुका था। उसके बाद दोबारा पचास हजार रुपए की मांग कर रहा था। आरोप है कि इन पैसों के लिए वह बार-बार फोन भी कर रहा था। 13 मार्च को भी डिप्टी रेंजर ने फोन पर रुपयों की मांग की थी। जिसकी मोबाइल पर रिकॉर्डिंग करके फरियादी ने लोकायुक्त उज्जैन से शिकायत कर दी। डिप्टी रेंजर ने फरियादी को पैसे देने के लिए रतलाम के वन मंडल कार्यालय में बुलाया गया था। इसी दौरान लोकायुक्त ने योजनाबद्ध तरीके से आरोपी डिप्टी रेंजर को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

दरअसल रतलाम वन विभाग के डिप्टी रेंजर ने इसी महीने की पहली तारीख को अवैध लकड़ी लदा वाहन जब्त किया था। गाड़ी मालिक से सामान और वाहन छोड़ने ने नाम पर 70 हजार रुपए ले चुका था। फिर भी गाड़ी नहीं छोड़ी थी। आगे गाड़ी नहीं पकड़ने की बात कहकर और 50 हजार रुपए मांग रहा था। आखिरकार तंग आकर फरियादी ने मामले की शिकायत 13 मार्च को उज्जैन लोकायुक्त में कर दी। जिसके बाद उज्जैन लोकायुक्त ने ट्रैप बनाकर डिप्टी रेंजर को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

और पढ़ें: छतरपुर में लोकायुक्त की कार्रवाई, रोजगार सहायक 10 हजार की घूस लेते गिरफ्तार

प्रदेश में घूसखोरी की शिकायतें लगातार आ रही हैं, सोमवार को छतरपुर में एक रोजगार सहायक को 10 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया था। आरोपी ने फरियादी के कुआं और घर स्वीकृत करने के एवज में 40 हजार की रकम मांगी थी।

और पढ़ें: रीवा में रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया सरपंच, लोकायुक्त ने रंगे हाथों किया गिरफ्तार

रीवा के दुआरी गांव का सरपंच भी हाल ही में 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया था। उसने सामुदायिक शौचालय हटवाने के बदले दो लाख की घूस मांगी थी।

और पढ़ें: घायल क्लर्क ने अस्पताल में भी नहीं छोड़ी घूसख़ोरी, लोकायुक्त ने रंगे हाथों पकड़ा

तीन मार्च को ग्वालियर के राजस्व विभाग का क्लर्क 20 हजार की रिश्वत लेते धराया था। क्लर्क ने जमीन नामांतरण के नाम पर रिश्वत ली थी।