MANIT में हंगामा जारी, 75 फीसदी अटेंडेंस रूल के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हजारों छात्र, मुख्यद्वार पर जड़ा ताला

मैनिट भोपाल में हजारों छात्रों ने 75 फीसदी अटेंडेंस रूल के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया है, करीब 2000 स्टूडेंट्स धरने पर बैठे हैं और छात्रों की संख्या बढ़ती जा रही है

Updated: Sep 01, 2022, 06:05 PM IST

MANIT में हंगामा जारी, 75 फीसदी अटेंडेंस रूल के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हजारों छात्र, मुख्यद्वार पर जड़ा ताला

भोपाल। देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक मॉलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी यानी (MANIT) में छात्रों का आंदोलन जारी है। यहां हजारों की संख्या छात्र-छात्राएं धरना प्रदर्शन और नारेबाजी कर रहे हैं। प्रदर्शनकारी स्टूडेंट्स 75 फीसदी अटेंडेंस रूल का विरोध कर रहे हैं। करीब 2000 कि संख्या में मौजूद छात्रों ने मैनिट के दोनों मुख्यद्वार पर ताला जड़ दिया है।

दरअसल, मैनिट भोपाल में 75 फीसदी अटेंडेंस अनिवार्य है। इसके बिना छात्रों को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जा रही है। बताया जा रहा है कि ऐसे हजारों छात्र हैं जिनकी उपस्थिति 75 प्रतिशत से कम है। इन सभी स्टूडेंट्स को साल खराब होने और करियर बर्बाद होने का डर सता रहा है। ये छात्र बुधवार सुबह से प्रदर्शन कर रहे हैं। शुरू में कुछ सौ छात्र ही थे। लेकिन बुधवार शाम तक इनकी संख्या 1500 के करीब पहुंच गई। वहीं गुरुवार शाम तक करीब 2 हजार छात्र जमा हो गए।

प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि फाइनल ईयर में सभी स्टूडेंट्स का फोकस प्लेसमेंट पर होता है। कई बार क्लासेस की टाइमिंग में ही इंटरव्यू होते हैं। ऐसे में स्टूडेंट्स के लिए 75% अटेंडेंस मेंटेन करना संभव नहीं है। इसके अलावा, नवंबर में CAT का, जनवरी में UPSC की इंजीनियरिंग सर्विस का, फरवरी में GATE का और मई में UPSC का एग्जाम होगा। बड़ी संख्या में फाइनल ईयर स्टूडेंट्स इन परीक्षाओं में बैठते हैं। इन परीक्षाओं की तैयारी के लिए काफी समय चाहिए होता है। 

यह भी पढ़ें: अमेरिका में PM मोदी और अडानी के खिलाफ केस दर्ज, भ्रष्टाचार और जासूसी का आरोप, समन जारी

प्रदर्शनकारी छात्र-छात्राओं का कहना है कि कॉलेज प्रबंधन स्टूडेंट्स का सहयोग करना चाहिए। फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स के लिए 75% अटेंडेंस के रूल को वापस लिया जाए। स्टूडेंट्स का आरोप है कि कॉलेज प्रबंधक जानबूझ कर छात्रों को परीक्षा से वंचित करने का षड्यंत्र रच रहा है। खास बात ये है कि इस प्रदर्शन में फर्स्ट ईयर और सेकंड ईयर के छात्र भी शामिल हो गए हैं। हालांकि, उनके लिए अटेंडेंस में छूट की मांग नहीं की जा रही है। मैनिट प्रबंधन ने 75 फीसदी अटेंडेंस नहीं होने पर छात्रों को मिनी टेस्ट देने से वंचित कर दिया है। व्यापक विरोध प्रदर्शन के बाद भी छात्रों की मांगे नहीं मानी गई है।

प्रबंधन की ओर से आंदोलित छात्रों को समझाने की कोशिशें तेज हो गई है। MANIT प्रबंधन ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों के लिए पत्र जारी किया है। इसमें कहा गया है कि छात्रों को सेमेस्टर के आखिर तक 75 फीसदी अटेंडेंस पूरी करने की मोहलत दी गई है। जो छात्र क्लास में नहीं आ रहे हैं उन्हें इसका ठोस कारण देना होगा कि वे क्लास क्यों नहीं आ रहे हैं। जायज कारण होने पर उन्हें संबंधित सब्जेक्ट के टीचर अटेंडेस देंगे। प्रबंधन ने ये भी कहा कि इस बार मिनी टेस्ट में शामिल नहीं होने वाले छात्रों के लिए अलग से मिनी टेस्ट आयोजित किया जाएगा।