उमंग सिंघार के बचाव में उतरे कमलनाथ, बोले- मत भूलें की हनी ट्रैप का टेप अब भी मेरे पास है

पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोनिया भारद्वाज के सुसाइड मामले में किया उमंग सिंघार का बचाव, बोले- बिना सबूत के राजनीतिक विद्वेष से हुई एफआईआर

Updated: May 20, 2021, 10:11 PM IST

उमंग सिंघार के बचाव में उतरे कमलनाथ, बोले- मत भूलें की हनी ट्रैप का टेप अब भी मेरे पास है

भोपाल। मध्यप्रदेश के हाईप्रोफाइल सोनिया भारद्वाज आत्महत्या मामले में पूर्व सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार का बचाव किया है। पीसीसी चीफ ने कहा है कि बिना ठोस साक्ष्य और सबूत के सिंघार के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। उन्होंने बीजेपी सरकार को नसीहत दी है कि आत्महत्या कांड को राजनीतिक दुर्भावना से नहीं देखा जाना चाहिए। कमलनाथ ने चेतावनी देते हुए कहा है कि हनी ट्रैप का टेप अब भी उनके पास है।

दरअसल, गुरुवार को कोरोना से बिगड़ते हालातों को लेकर मध्यप्रदेश कांग्रेस विधायक दल की ऑनलाइन माध्यम से बैठक हुई। इस दौरान कुछ विधायकों ने सोनिया भारद्वाज आत्महत्या मामले में सिंघार के खिलाफ हुई एफआईआर का जिक्र किया। इस दौरान विधायकों को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा, 'मैने हमेशा सदाचार की राजनीति की है। लेकिन उमंग के खिलाफ बिना ठोस साक्ष्य के राजनीतिक विद्वेष से एफआईआर दर्ज की गयी है।'

यह भी पढ़ें: पूर्व मंत्री उमंग सिंघार की महिला मित्र ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा- तुम्हारी जिंदगी में जगह चाहती थी

पीसीसी चीफ ने चेतावनी देते हुए कहा कि किसी को यह नहीं भूलना चाहिए कि हनी ट्रैप कांड की ओरिजनल पेन ड्राइव अभी भी उनके पास है। उन्होंने कहा, 'सोनिया की मां और बेटे में किसी ने उमंग के खिलाफ बयान नहीं दिया है। मैने सीएम शिवराज से इस बारे में बात की है। शुक्रवार को सीएम शिवराज से मिलकर हम अपनी बात रखेंगे।' कमलनाथ के इस बयान को प्रेशर पॉलिटिक्स के तौर पर देखा जा रहा है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, हरियाणा में अंबाला के बलदेव नगर की रहने वाली 39 वर्षीय सोनिया भारद्वाज ने बीते रविवार शाम पूर्व मंत्री उमंग सिंघार के भोपाल स्थित निवास पर आत्महत्या कर लिया था। बताया जा रहा है सोनिया उमंग सिंघार की महिला मित्र थी जो अक्सर उनके बंगले पर रुकती थी। पुलिस को महिला के पास से एक सुसाइड नोट भी मिली है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस सुसाइड नोट में सोनिया ने लिखा है कि, 'उमंग अपने जीवन में मुझे जगह देना नहीं चाहते। वह बहुत गुस्सा हो जाते हैं। उनके सामान को टच करो तो बुरा लगता है। मैने अपनी तरफ से सब कुछ किया, कोशिश की एडजस्ट करने की लेकिन आपने अपनी लाइफ में जगह नहीं दिया। अब मैं और सहन नहीं कर सकती।' मामले में पुलिस ने सिंघार के खिलाफ आत्महत्या के उकसाने का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अधिकारियों का दावा है कि उमंग के खिलाफ सबूतों के आधार पर ही मुकदमा दर्ज की गई है। 

इस घटना को लेकर उमंग सिंघार का भी बयान सामने आया है। सिंघार ने उसे मनोरोगी करार देते हुए कहा है कि यदि मुझे पहले पता होता कि वह मानसिक तौर पर अस्वस्थ हैं तो मैं समय रहते उनका इलाज करवा पाता। सिंघार ने कहा है कि, 'वह मेरी अच्छी दोस्त थी और यह घटना अत्यंत हृदय विदारक है। मैं खुद भी हतप्रभ हूं कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया?' सिंघार ने बताया कि जब सोनिया भारद्वाज ने आत्महत्या किया तब वे अपने विधानसभा क्षेत्र गंधवानी में थे।