व्यापमं व्हिसल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी की हालत स्थिर, सर गंगाराम अस्पताल में मिलने पहुंचे दिग्विजय सिंह, इलाज में मदद का दिया भरोसा

चेस्ट में इन्फेक्शन के बाद आशीष चतुर्वेदी की हालत बिगड़ी, सरकार से इलाज में नहीं मिली कोई मदद, कांग्रेस नेताओं ने दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में एडमिट कराया, इलाज में लगी विशेषज्ञों की टीम

Updated: Aug 21, 2022, 02:23 PM IST

व्यापमं व्हिसल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी की हालत स्थिर, सर गंगाराम अस्पताल में मिलने पहुंचे दिग्विजय सिंह, इलाज में मदद का दिया भरोसा

नई दिल्ली/भोपाल। मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापमं महाघोटाले के व्हिसल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी की हालत स्थिर है। उन्हें चेस्ट में इन्फेक्शन के बाद राजधानी दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विशेषज्ञों की टीम आशीष की 24 घंटे निगरानी कर रही है। हालांकि, उनके पिता ने बताया कि आशीष के स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ गया है और वे डॉक्टरों को सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह रविवार सुबह आशीष से मिलने दिल्ली पहुंचे।

आशीष के पिता ओमप्रकाश शर्मा ने कहा कि रविवार सुबह पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह हॉस्पिटल आए थे। उन्होंने हमें ढांढस बंधाया और आशीष को भी समझाइश दी। उन्होंने हर संभव मदद करने का आश्वासन भी दिया है। शर्मा के मुताबिक बीते 15 अगस्त को कांग्रेस नेता विवेक तन्खा के सहयोग से आशीष को सर गंगाराम अस्पताल में एडमिट कराया गया था। यहां डॉक्टरों की टीम 24 घंटे आशीष की निगरानी कर रही है। चेस्ट में इन्फेक्शन बढ़ गया था। आशीष के लंग्स से दो बार में करीब 800 एमएल पानी निकाला जा चुका है।

यह भी पढ़ें: महाकाल थाली पर घिरा Zomato, मंदिर के पुजारियों ने जताई आपत्ति, ऋतिक रोशन के खिलाफ कार्रवाई की मांग

ओमप्रकाश शर्मा ने यह भी बताया कि बीते कुछ समय से आशीष के स्वभाव में बदलाव आई है। बीमार होने के बाद कमजोरी की वजह से उसका स्वभाव चिड़चिड़ापन हो गया है। घर वालों से भी वह ठीक से बात नहीं करता। यहां तक कि वह डॉक्टरों के साथ भी सहयोग नहीं कर रहा। डॉक्टर और नर्स उसे घंटों समझाते हैं, इसके बाद भी दवा लेने में अनाकनी करता है। इसी वजह से चिंता बढ़ी हुई है।

हॉस्पिटल में मौजूद आशीष के बहनोई ने बताया कि डॉक्टरों ने कहा है कि उसे दो हफ्ते भर्ती रहना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि आशीष के इलाज में करीब 20 लाख रुपए खर्च होंगे। शुरुआत में करीब तीन लाख रुपए हमने खर्च किया है। सरकार की ओर से तो कोई मदद नहीं मिल रही है। कांग्रेस नेताओं ने इलाज का खर्च वहन करने का आश्वासन दिया है। 

आशीष के पिता ने मीडिया में चल रही उन खबरों का खण्डन किया जिसमें दावा किया जा रहा है कि विपक्ष ने भी उसे अकेला छोड़ दिया है। उन्होंने बताया कि
कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह और विवेक तन्खा लगातार डॉक्टरों के संपर्क में हैं। उन्होंने आश्वासन दिया है कि आशीष के इलाज के लिए जो कुछ भी आवश्यक हो वे मदद करेंगे। ओमप्रकाश शर्मा आशीष के व्यवहार को लेकर सर्वाधिक चिंतित हैं। 

डॉक्टरों का कहना है आशीष के दिमाग में डर बैठा हुआ है। इस वजह से वह जल्द ठीक नहीं हो रहे। वह जितनी सकारात्मकता के साथ रहेंगे और इलाज में सहयोग करेंगे उतनी ही जल्द वह स्वस्थ हो जाएंगे। उन्हें बेस्ट ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। बता दें कि मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापमं महाघोटाले का खुलासा करने में आशीष का रोल बेहद अहम रहा है। इस खुलासे की वजह से भ्रष्टाचार में लिप्त मंत्री-अधिकारी परेशान हो गए थे। 

आशीष को लगातार धमकियां मिलती रहीं लेकिन उन्होंने अपनी लड़ाई जारी रखी। इतना ही नहीं आशीष के ऊपर कई बार जानलेवा हमले भी हुए। कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें सुरक्षा दी गई। आशीष अपने सुरक्षाकर्मी को लेकर हमेशा साइकिल से ही चलते थे। आशीष और उनकी साइकिल को देश के सबसे चर्चित व्यापमं घोटाले की प्रतीक के रूप में देखा जाता है।