Bihar Elections: आरजेडी घोषणा पत्र में 10 लाख सरकारी नौकरी, बेरोज़गारी भत्ता और कर्जमाफी जैसे बड़े वादे

Tejashwi Yadav: बीजेपी बताए अपना सीएम कैंडिडेट, नीतीश ने तो 10 लाख नौकरी पर ही हाथ खड़े कर दिए फिर 19 लाख नौकरियां कैसे देंगे

Updated: Oct 24, 2020, 04:44 PM IST

Bihar Elections: आरजेडी घोषणा पत्र में 10 लाख सरकारी नौकरी, बेरोज़गारी भत्ता और कर्जमाफी जैसे बड़े वादे
Photo Courtesy: Indian Express

पटना। राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। आरजेडी नेता व महागठबंधन के सीएम पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने घोषणा पत्र जारी करते हुए सीएम नीतीश कुमार और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। आरजेडी ने अपने घोषणा पत्र में मुख्य रूप से युवाओं को 10 लाख सरकारी नौकरियां, बेरोज़गारी भत्ता और किसानों को कर्जमाफी देने का वादा किया है।

शनिवार को बिहार विधानसभा चुनाव का घोषणापत्र जारी करते हुए तेजस्वी ने कहा कि हमारा संकल्प नया और विकसित बिहार बनाने का है और आरजेडी के इस संकल्प को पूरा करने के लिए हम सरकार बनते ही अपनी पहली कैबिनेट में पहले हस्ताक्षर से बिहार के 10 लाख युवाओं को संविदा नहीं बल्कि पक्की सरकारी नौकरी देने का काम करेंगे। राज्य की तमाम सरकारी नौकरियों में स्थानीय युवाओं के लिए 85 फीसदी आरक्षण सुनिश्चित किया जाएगा। साथ ही किसानों को कर्जमाफी और बेरोजगारों को 1500 रुपए प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने की बात भी कही गई है। पार्टी ने अपने घोषणा पत्र को 'प्रण हमारा संकल्प बदलाव का' नाम दिया है।

शिक्षा और स्वास्थ्य पर फोकस

संकल्प पत्र जारी करते हुए तेजस्वी ने कहा, 'हमने रोजगार, महिला सशक्तीकरण, कृषि उद्योग, शिक्षा, स्मार्ट गांव, पंचायती राज, गरीबी, सामुदायिक विकास और स्वास्थ्य पर पूरा ध्यान फोकस किया है। आरजेडी का जोर शिक्षा और स्वास्थ्य पर है। हर जिले में सुविधायुक्त लाइब्रेरी, बैंक-रेलवे-एसएससी की तैयारी हेतु मुफ्त कोचिंग की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही स्कूलों में माध्यमिक कक्षा से ही कौशल व कंप्यूटर की ट्रेनिंग दी जाएगी। स्वास्थ्य के क्षेत्र की बात करें तो नए डॉक्टरों, नर्स, पैरा मेडिकल कर्मचारी और सफाई कर्मचारियों की भर्ती सहित आशा दीदी का मानदेय दुगनी करने का वादा किया है।

बीजेपी बताए अपना सीएम उम्मीदवार

घोषणा पत्र जारी करने के दौरान तेजस्वी ने सीएम नीतीश और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। आरजेडी नेता ने कहा, 'बीजेपी बताए कि उसका सीएम उम्मीदवार कौन है? क्या नीतीश कुमार हैं? नीतीश ने तो 10 लाख नौकरी पर ही हाथ खड़ा कर दिया है। इसलिए बीजेपी बिहार में 19 लाख नौकरियां कहां से देगी। जब बिहार में एनडीए के नेता नीतीश हैं तो बीजेपी किसे बेवकूफ बना रही है।' बता दें कि बीजेपी ने 19 लाख नौकरी देने का वादा किया है वहीं नीतीश आरजेडी के 10 लाख नौकरी के वादे पर भी निशाना साध चुके हैं। सीएम ने पूछा था कि 10 लाख नौकरियों के लिए पैसा क्या जेल से आएगा?

घोषणा पत्र की मुख्य बातें

- 10 लाख सरकारी नौकरी, प्रतियोगी परीक्षाओं में लगने वाली फीस माफ, 35 वर्ष से कम के बेरोजगार युवाओं को बेरोजगारी भत्ता

- किसानों की कर्जमाफी, बुजुर्गों और गरीबों को मिलने वाली पेंशन 400 से बढ़ाकर 1000 रुपए

- सभी प्रखंड में नेतरहाट के तर्ज पर विद्यालय की स्थापना, हर जिले में 3 से 5 आवासीय विद्यालय

- प्रदेश के सभी स्कूलों में अनिवार्य कंप्यूटर और अंग्रेजी की पढ़ाई, स्कूली छत्राओं को सैनिटरी नैपकिन और अलग शौचालय

- सभी जिलों में गुणवत्तापूर्ण सरकारी इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज की स्थापना, सरकारी नौकरियों की तैयारी के लिए सभी जिलों में मुफ्त कोचिंग

- डॉक्टरों, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और सफाईकर्मियों की भर्ती, आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स का मानदेय दो गुना

- समान काम के लिए समान वेतन सुनिश्चित करना

- भागलपुर के रेशम उद्योग, मिथिला के मखाना उद्योग समेत सभी बंद पड़े उद्योग धंधों को बढ़ावा व विस्तार देने की योजना।