Chirag Paswan: चुनाव में JDU को नुकसान पहुंचाना ही था हमारा मुख्य मकसद

बिहार चुनाव के नतीजे आने बाद चिराग पासवान ने कहा, बीजेपी को ज्यादा सीटें मिली और JDU को नुकसान हुआ, हमने अपना लक्ष्य हासिल किया

Updated: Nov 11, 2020, 03:08 PM IST

Chirag Paswan: चुनाव में JDU को नुकसान पहुंचाना ही था हमारा मुख्य मकसद
Photo Courtesy : Livemint

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं और चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी को इसमें करारी हार मिली है। हालांकि चिराग अपनी हार को मानने के लिए तैयार नहीं हैं। एलजेपी चीफ का कहना है कि हमारा लक्ष्य ही जेडीयू को नुकसान पहुंचाना था जो हमने हासिल कर लिया है।

चुनाव नतीजों के दूसरे दिन चिराग ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, 'NDA को तो नहीं पर JDU को 'डेंट' करना जरूर हमारा लक्ष्य था और उस लक्ष्य पर मैंने मज़बूती से काम किया है। इसका नुकसान बीजेपी को नहीं हो इस पर भी मैंने निरंतर काम किया। हमारी पार्टी का जो लक्ष्य था कि बीजेपी को ज्यादा सीटों पर जीत मिले और JDU को नुकसान हो वह हमने हासिल किया है।' एलजेपी चीफ ने आगे कहा कि, 'जो लोग आज की तारीख में सत्ता में है, भ्रष्टाचार कहां हुआ कितना हुआ उसको उजागर करने की जिम्मेदारी उनके ऊपर है। ये मैंने स्पष्ट किया हुआ है कि अगर नीतीश कुमार जी प्रदेश के सीएम बनते हैं तो उसका समर्थन LJP नहीं करेगी।'

और पढ़ें: बुरी तरह हारीं पुष्पम प्रिया चौधरी, EVM हैक होने का लगाया आरोप

एलजेपी को मिले 25 लाख वोट

चिराग ने इस दौरान बताया कि वह बिहार की जनता से मिले प्यार और समर्थन से खुश हैं। उन्होंने कहा, 'प्रदेश के करीब 25 लाख मतदाताओं ने 'बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट' पर भरोसा किया और अकेले चुनाव लड़ते हुए हमने 6 फीसदी वोट हासिल किए। पार्टी के वोट शेयर में बढ़ोतरी हुई है। हमें पिछलग्गू पार्टी कहा जाता था, जो केवल दूसरे के समर्थन से कुछ कर सकती है। लेकिन हमने साहस दिखाया है और हम सत्ता के लिए नहीं झुके।' उन्होंने दावा किया कि एलजेपी हर जिले में मजबूत हुई है और इसका फायदा उन्हें भविष्य में जरूर मिलेगा।

चिराग ने किया एनडीए का नुकसान: बीजेपी

हालांकि बीजेपी नेताओं का कहना है कि चिराग पासवान की वजह से एनडीए को नुकसान हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने चिराग पर हमला करते हुए यह बात कही है। वहीं, जेडीयू नेता केसी त्यागी ने चिराग को एनडीए का सबसे बड़ा दुश्मन बताया है। त्यागी ने यह भी आरोप लगाया है कि एलजेपी के कारण ही तेजस्वी और तेजप्रताप यादव चुनाव जीत पाए हैं।

और पढ़ें: बिहार में तेजस्वी को आशीर्वाद देकर राष्ट्रीय राजनीति में आएं नीतीश कुमार

एलजेपी ने जीती सिर्फ एक सीट

बता दें कि बिहार चुनाव में एलजेपी ने 130 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे, लेकिन उसे जीत सिर्फ एक सीट पर ही मिली। ये एकमात्र सीट बेगूसराय के मटिहानी विधानसभा क्षेत्र की है, जहां एलजेपी के उम्मीदवार राजकुमार ने जेडीयू के बोगो सिंह को हरा दिया। बता दें कि बिहार में एनडीए गठबंधन ने 125 सीटें जीतकर बहुमत हासिल कर लिया है। आरजेडी 75 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी तो बन गई, लेकिन महागठबंधन कुल मिलाकर 110 सीट ही जीत सका।